depo 25 bonus 25 to 5x Daftar SBOBET

बदरीनाथ धाम के कपाट खुले, शुरू हुई चार धाम की यात्रा

उत्तराखंडबदरीनाथ धाम के कपाट खुले, शुरू हुई चार धाम की यात्रा

Date:

रविवार सुबह उत्तराखंड में बदरीनाथ धाम के कपाट 6 महीने बंद रहने के बाद श्रद्धालुओं के लिए खोल दिए गए जिसके साथ चारों धामों की यात्रा शुरू हो गई। अन्य तीन धाम-केदारनाथ, गंगोत्री और यमुनोत्री के कपाट अक्षय तृतीया के पर्व पर शुक्रवार को ही खोल दिए गए थे। इस दौरान वहां बड़ी संख्या में श्रद्धालु बदरी विशाल के जयकारों के साथ धाम पहुंचते नजर आए। कपाट खुलने से पहले 15 कुंतल फूलों से मंदिर को सजाया गया है।

चमोली जिले में स्थित बदरीनाथ मंदिर के कपाट पूरे विधि विधान के साह के साथ वैदिक मंत्रोच्चार के बीच निर्धारित मुहूर्त पर सुबह छह बजे खोल दिए गए। कपाट खुलने के बाद विशेष पूजा अर्चना की गई। मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने कपाट खुलने के अवसर पर सभी श्रद्धालुओं को बधाई दी। बदरीनाथ धाम में ब्रह्म मुहूर्त में सुबह चार बजे से कपाट खुलने की प्रक्रिया शुरू हुई। हालाँकि उस समय हल्की बारिश हो रही थी फिर भी सेना के बैंड एवं ढोल नगाड़ों की धुन पर स्थानीय महिलाओं के पारंपरिक नृत्य और संगीत ने श्रद्धालुओं को मंत्रमुग्ध कर दिया।

जानकारी के मुताबिक दक्षिण द्वार से मंदिर परिसर में पहले कुबेर जी, उद्धव जी एवं गाडू घड़ा को लाया गया फिर मंदिर के मुख्य पुजारी समेत अन्य पदधिकारियों, चमोली के जिलाधिकारी, तीर्थ पुरोहितों और श्रद्धालुओं की मौजूदगी में विधि विधान के साथ मंदिर के कपाट खोले गए। इसके बाद गर्भगृह में भगवान बदरीनाथ की विशेष पूजा-अर्चना की। रिकॉर्ड के मुताबिक पिछली बार बदरीनाथ में 18,39,591 श्रद्धालु दर्शन के लिए पहुंचे थे जो कि एक रिकॉर्ड था।
इस बार भी लोगों में जिस तरह उत्साह यात्रा को लेकर देखा जा रहा है उससे राज्य की धामी सरकार को इस बार और श्रद्धालुओं के आने की उम्मीद है। आधिकारिक आंकड़ों के अनुसार, शनिवार शाम चार बजे तक सात लाख 37 हजार 885 श्रद्धालु बदरीनाथ के लिए अपना आनलाइन रजिस्ट्रशन करवा चुके थे।

Share post:

Subscribe

Popular

More like this
Related

21 लाख रूपये का एक रन!

आईपीएल में 17वीं बार भी आरसीबी का सपना टूट...

आईसीआईसीआई बैंक के पूर्व अध्यक्ष नारायणन वाघुल का निधन

प्रसिद्ध बैंकर और आईसीआईसीआई बैंक के पूर्व अध्यक्ष नारायणन...

आईपीएल ट्रॉफी के लिए कोहली का इंतज़ार और बढ़ा

किस्मत की बात है वरना एक ट्राफी के लिए...