depo 25 bonus 25 to 5x Daftar SBOBET

इंग्लिश की नायाब ‘Vocabmetry’ के लिए भोपाल के Rahul Parashar को मिला पेटेंट

प्रेस रिलीज़इंग्लिश की नायाब ‘Vocabmetry’ के लिए भोपाल के Rahul Parashar को...

Date:


इंग्लिश की नायाब ‘Vocabmetry’  के लिए भोपाल के Rahul Parashar को मिला पेटेंट

भोपाल, 3 अप्रैल: अपने अद्भुत इंगलिश प्रोसेस के लिए मशहूर भोपाल के राहुल पाराशर को “वोकैबमेट्री” ( ‘Vocabmetry’) , अंग्रेजी सीखने की एक अनूठी और आसान प्रोसेस के लिए सफलतापूर्वक पेटेंट प्राप्त हुआ है। राहुल पाराशर ने 2014 में पेटेंट कार्यालय, भारत सरकार में पेटेंट के लिए आवेदन किया था और 30 मार्च 2022 को उन्हें इसका प्रमाण पत्र प्राप्त हुआ। “मेथड ऑफ वोकैबमेट्री” मूल रूप से इंग्लिश सीखने की आसान प्रोसेस है।

राहुल पाराशर (Rahul Parashar ) कहते हैं, “वोकैबमेट्री”, वोकैबुलरी को आसानी से याद करने का तरीका है. अब तक, भोपाल और दिल्ली में लगभग 20 हजार डिजिटल छात्रों के अलावा 3000 विद्यार्थियों ने अपनी वोकैबुलरी में इससे स्थायी लाभ प्राप्त किया है। UPSC, CLAT, CAT, GRE, आदि जैसी प्रतियोगी परीक्षाओं के उम्मीदवारों के लिए ये वोकैबमेट्री का पैटर्न बहुत ही उपयोगी साबित हुआ है”.

वोकैबमेट्री के लिए राहुल पाराशर ने 2014 में “मेथड ऑफ वोकैबमेट्री” पर पेटेंट के लिए आवेदन किया था। पेटेंट कार्यालय से उच्च स्तर की जांच और खोज के बाद, राहुल पाराशर को इस आविष्कार के लिए पेटेंट प्रदान किया गया, पेटेंट अधिनियम 1970 के प्रावधान के साथ 20 वर्ष की अवधि के लिए है।

अंग्रेजी के शब्द को याद करने के लिए इससे पहले कोई फंडामेंटल प्रोसेस नहीं थी, राहुल ने इस समस्या के समाधान पर काम किया और “मेथड ऑफ वोकैबमेट्री” का आविष्कार किया, जिसे ‘वोकैबमेट्री’ कहा जाता है। राहुल पाराशर अब इस फंडामेंटल प्रोसेस को शिक्षा प्रणाली के जमीनी स्तर पर भी फैलाना चाहते हैं। उनका मानना है कि वर्तमान शिक्षा परिवेश में, कोई व्यक्ति अंग्रेजी भाषा से शायद ही बच सकता है। इसलिए, पाठ्यक्रम में वोकैबुलरी को शामिल करने के लिए कई स्कूलों के साथ बात की जा रही है।

‘The Vocabmetry’ के आविष्कार की कहानी:

किसी भी पुस्तक और, विशेष रूप से, एक डिक्शनरी को रटना एक असंभव कोशिश रही है, लेकिन कैसा हो अगर शब्द आपको कहानियां सुनाएं? और आपको वो शब्द हमेशा के लिए याद हो जाए. राहुल पाराशर एक दिन अकेले अपने कमरे में पेन और कागज लिए बैठे थे। उन्होंने अपने डिक्शनरी के पहले कुछ पन्ने खोले और जो शब्द देखे उन्हें संक्षेप में लिख दिया। फिर, उन्होंने ‘ab’ से शुरू होने वाले कई शब्दों की एक सूची बनाई, जिसमें abject, abridge, abdicate, abominable, abound आदि शामिल हैं। इस प्रक्रिया के दौरान, उन्होंने महसूस किया कि ‘ab’ का उच्चारण ‘एब’ के साथ है, और इस कॉमन कॉम्बिनेशन को उन्होंने स्टार्ट कोआर्डिनेट का नाम दिया और हर स्टार्ट कोआर्डिनेट के लिए कुछ कैरेक्टर डेवेलप किए, जिसने शब्दों को एक चरित्र दिया. जल्द ही, उन्होंने महसूस किया कि यदि समान सबसे स्टार्ट और एंड कॉम्बिनेशन वाले शब्दों को क्लासिफाइड कर सकते हैं और उनके साथ हास्य पात्रों को जोड़ सकते हैं, तो शब्द विद्यार्थियों को हमेशा याद रह सकता है।

इसलिए, राहुल पाराशर (Rahul Parashar ) ने एक फुल-प्रूफ सिस्टम को इनक्यूबेट किया, जहां सबसे स्टार्ट कॉम्बिनेशन को स्टार्ट कोआर्डिनेट नाम दिया और इसी तरह एंड कॉम्बिनेशन को एंड कोआर्डिनेट. ये प्रत्येक शब्द के लिए एक अनूठी कहानी समर्पित करते हैं। राहुल पाराशर ने इन विकसित कॉम्बिनेशन और कुछ 110 यादगार कैरेक्टरस् की मदद से वोकैबुलरी सीखने की एक फंडामेंटल प्रोसेस की और अब लगभग 27,500 शब्दों में वोकैबुलरी का विस्तार कर रहे हैं।

Share post:

Subscribe

Popular

More like this
Related

जोकोविच-अल्काराज़ में होगी विंबलडन की खिताबी जंग

डिफेंडिंग चैंपियन कार्लोस अल्काराज़ ने शुक्रवार को सेंटर कोर्ट...

IMF ने भारत की जीडीपी का अनुमान बढ़ाया

अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष के ताजा अनुमान के मुताबिक भारत...

दिल्ली कैपिटल्स ने रिकी पोंटिंग से तोड़ा सात साल पुराना नाता

ऑस्ट्रेलिया के पूर्व विश्व कप विजेता कप्तान रिकी पोंटिंग...

नई ऊंचाइयों पर भारतीय शेयर बाज़ार, सेंसेक्स 81 हज़ार के पार

भारतीय शेयर बाजार ने 18 जुलाई को लगातार चौथे...