depo 25 bonus 25 to 5x Daftar SBOBET

क्या BJP के लिए मददगार साबित होगा ‘पनौती’ सम्बोधन

आर्टिकल/इंटरव्यूक्या BJP के लिए मददगार साबित होगा 'पनौती' सम्बोधन

Date:

तौकीर सिद्दीकी

भारत के किसी भी हिस्से में चुनाव हों और बात भाषाई मर्यादा तक न पहुंचे ऐसा हो ही नहीं सकता। देश के पांच राज्यों में चुनाव हैं, तीन में सम्पन्न हो चुके हैं और चौथे राज्य राजस्थान में 25 नवंबर को मतदान है, इसके बाद तेलंगाना का नंबर है. देश के पहाड़ी राज्य मिजोरम में तो सबकुछ शांति से निपटा, किसी ने किसी पर ऊँगली नहीं उठाई लेकिन छत्तीसगढ़ और मध्य प्रदेश में राजनेताओं की भाषा बदल गयी, सीधे और व्यक्तिगत हमलों में तेज़ी आती गयी और मूर्खों के सरदार के रूप में पहला व्यक्तिगत हमला हुआ. इन दो राज्यों से निकलकर जब नेताओं का काफिला राजस्थान पहुंचा तो ऐसे हमले और तेज़ हुए और मूर्खों के सरदार का जवाब पनौती के रूप में सामने आया. मूर्खों के सरदार के रूप में प्रधानमंत्री मोदी ने राहुल गाँधी को सुशोभित किया तो राहुल गाँधी को विश्व कप में भारत की हार के बहाने मोदी जी पर हमले का मौका मिल गया और कांग्रेस नेता ने प्रधानमंत्री मोदी को सीधे सीधे पनौती घोषित कर दिया, फिर क्या था हंगामा होना लाज़मी था.

दरअसल इन्ही चुनाव के दौरान देश में क्रिकेट का विश्व कप भी हो रहा था और टीम इंडिया बहुत अच्छा प्रदर्शन कर रही थी, क्या समर्थक और क्या विरोधी हर कोई ये मानकर चल रहा था विश्व कप भारत का है, उसे कोई हरा नहीं सकता लेकिन फाइनल में पूरे देश को निराशा हाथ लगी, टीम इंडिया ऑस्ट्रेलिया के हाथों हार गयी. प्रधानमंत्री मोदी जी भी अहमदाबाद में बने अपने ही नाम के स्टेडियम में मैच देखने पहुंचे थे. उन्हें भी हार से निराशा हुई हालाँकि राजनीतिक लोगों का कहना था कि उन्हें टीम इंडिया की हार से ज़्यादा किसी और बात से निराशा हुई थी. टीम इंडिया की हार, मोदी जी का मैच देखना, राहुल गाँधी को यहीं पर मौका मिल गया और राजस्थान में एक राजनीतिक मंच से उन्होंने भारत की हार का ठीकरा सीधे सीधे मोदी जी पर फोड़ दिया, उन्हें पनौती घोषित करके. राहुल के अनुसार भारत विश्व कप जीत जाता अगर मोदी जी फाइनल देखने स्टेडियम न जाते।

हालाँकि पनौती शब्द सोशल मीडिया पर उसी दिन से ट्रेंड करने लगा था जिस दिन ये खबर सामने आयी थी कि प्रधानमंत्री मोदी फाइनल मैच देखने स्टेडियम देखने जायेंगे। राहुल गाँधी ने राजनीतिक मंच से उस पनौती शब्द का औपचारिक रूप से इस्तेमाल किया। देश में एक बहस छिड़ गयी, भाजपा का नाराज़ होना लाज़मी था, भाजपा ने पनौती शब्द को गाली माना और कहा कि राहुल गाँधी ने मोदी जी को गाली दी है और देश की जनता इसे कभी माफ़ नहीं करेगी। दूसरी तरफ कांग्रेस पूरी तरह राहुल के इस बयान के समर्थन में दिखी। प्रियंका गाँधी ने दूसरे दिन राजस्थान की एक चुनावी सभा में भले ही पनौती शब्द का उल्लेख नहीं किया लेकिन वर्ल्ड कप फाइनल का ज़िक्र करके बात को वहां तक ले ज़रूर गयीं. प्रियंका ने कहा कि प्रधानमंत्री मणिपुर नहीं गए जहाँ महिलाओं के साथ कितनी शर्मनाक घटनाएं हुई मगर वो विश्व कप का फाइनल देखने ज़रूर पहुँच गए. प्रियंका ने ये भी बताया कि प्रधानमंत्री मोदी जी फाइनल मैच देखने क्यों गए थे. प्रियंका ने कहा कि मोदी जी दरअसल टीम इंडिया की जीत का श्रेय लेने पहुंचे थे , टीम इंडिया अगर जीत जाती तो मोदी जी वहां इवेंटबाज़ी करते, मीडियाबाज़ी करते।

इधर कांग्रेस प्रवक्ता पवन खेड़ा ने मीडिया को इस मामले पर आड़े हाथो लिया जो राहुल के पनौती वाले सम्बोधन पर कांग्रेस को घेरने में पूरी तरह जुटा हुआ था। पवन खेड़ा ने न्यूज़ एंकरों को ज्ञानचंद से सम्बोधित करते हुए कहा कि ये सारे ज्ञानचंद तब कहाँ थे जब प्रधानमंत्री मोदी राहुल गाँधी को मूर्खों का सरदार बता रहे थे, जब निर्मला सीतारमण ने राहु काल कहा. क्या किसी ज्ञानचंद ने इन बयानों की निंदा की. दरअसल चुनाव दर चुनाव भाषाई मर्यादा तार तार होती रहती है, ये अलग विषय है कि शुरुआत कौन करता है. इस हम्माम में सभी नंगे हैं, कोई भी पार्टी इससे अछूती नहीं है. भाषाई मर्यादा का किधर से ज़्यादा उल्लंघन होता ये भी जनता अच्छी तरह जानती है, ये अलग बात है कि शोर अक्सर एक ही तरफ से उठता है। पनौती के सम्बोधन का राजस्थान के चुनाव में क्या असर पड़ेगा ये तो तीन दिसंबर को पता चलेगा। हालाँकि देखा यही गया है मोदी जी अक्सर इस तरह के सम्बोधनों का फायदा उठाते रहे हैं. फिलहाल तो राजस्थान में यही लग रहा है कि भाजपा वापसी कर सकती है, ओपिनियन पोल्स भी इशारा कर रहे हैं, हालाँकि मुख्यमंत्री गेहलोत और पूरी कांग्रेस पार्टी सत्ता बरकरार रखने के लिए पूरी तरह ज़ोर लगा रही है. अब देखना होगा कि ‘पनौती’ शब्द राजस्थान के चुनाव में भाजपा की कितनी मदद करेगा।

Share post:

Subscribe

Popular

More like this
Related

कमाई के मामले में ये हैं दुनिया के टॉप 5 फुटबॉलर

फुटबॉल दुनिया में सबसे ज्यादा खेला और देखा जाने...

मखमली आवाज़ के मालिक पंकज उधास का निधन

चिठ्ठी आई है वतन से चिट्ठी आयी है जैसा...

बैंक फ्रॉड से बचना आसान अगर रखें इन बातों का ख्याल

जैसे जैसे ऑनलाइन लेनदेन बढ़ रहा है बैंकिंग फ्रॉड...

मोहब्बत के शहर में न्याय यात्रा से जुड़े अखिलेश

उत्तर प्रदेश में इंडिया गठबंधन के तहत समाजवादी पार्टी...