depo 25 bonus 25 to 5x Daftar SBOBET

रसोई Bytes : क्या आपने कभी इस दुर्लभ कंद मूल को देखा है

रसोई Bytesरसोई Bytes : क्या आपने कभी इस दुर्लभ कंद मूल को देखा...

Date:

अरारोट के बारे में बहुत से लोग जानते हैं लेकिन तीखुर के बारे में बहुत से लोग नहीं जानते हैं। बता दें कि यह एक कंद मूल है और इसका सेवन फल के रूप में किया जाता है। तिखुर का पौधा और कंद दोनों ही हल्दी के समान होते हैं, केवल इसका कंद सफेद रंग का होता है। इस कंदमूल का उपयोग आमतौर पर नवरात्रि और सावन व्रत के दौरान फलाहार बनाने के लिए किया जाता है। ये तो हुई खाने-पीने की बात, लेकिन आयुर्वेद में भी इसका महत्व बताया गया है, तीखुर एक ऐसी जड़ी-बूटी है, जो बुखार, शरीर की गर्मी, अधिक प्यास लगना, एनीमिया, मधुमेह, पीलिया जैसी बीमारियों के लिए फायदेमंद मानी जाती है।

तीखुर क्या है

तीखुर एक कंदयुक्त जड़ है, जो आमतौर पर जंगलों में पाई जाती है। इसका पेड़ हल्दी के समान होता है, लेकिन इसका फूल पीला और कंद सफेद होता है। वहीं हल्दी का फूल सफेद और कंद पीला होता है। इसका पौधा कई वर्षों तक जीवित रहता है और इसके कंद अंदर बढ़ते रहते हैं। तीखुर की पत्तियाँ नोकदार और 30-45 सेमी तक लंबी होती हैं। यह आमतौर पर पहाड़ी इलाकों जैसे उत्तराखंड, बिहार, महाराष्ट्र, छत्तीसगढ़ और दक्षिण भारतीय राज्यों में पाया जाता है। इसकी तासीर बहुत ठंडी होती है इसलिए गर्मियों में इसका सेवन करना अच्छा माना जाता है ।

तीखुर के उपयोग और फायदे

कैल्शियम और कार्बोहाइड्रेट से भरपूर यह शरीर की गर्मी को कम करने के लिए फायदेमंद है। व्रत में इसका सेवन सिंघाड़े की तरह फल के रूप में किया जाता है। इसका उपयोग बच्चों को खिलाने के लिए भी किया जाता है, इसलिए इसे शिशु आहार की श्रेणी में रखा जाता है। यह पेट संबंधी समस्याओं के लिए भी बहुत फायदेमंद है। इसके अलावा पेट फूलना, गैस, दस्त, पेशाब में जलन, खांसी जैसी तमाम तरह की समस्याओं से राहत पाने के लिए यह फायदेमंद है।

तीखुर बनाने की प्रक्रिया

तीखुर बनाने की प्रक्रिया थोड़ी जटिल है, तीखुर बनाने के लिए सबसे पहले जड़ को साफ पानी में धोकर सुखाया जाता है। जब यह सूख जाए तो इसका छिलका उतारकर इसे पीस लिया जाता है। फिर इसे पानी में घोल दिया जाता है, पानी में घुलते ही इसके प्रदूषक तत्व ऊपर आ जाते हैं और तीखापन नीचे रह जाता है। जमे हुए तीखुर को धूप में अच्छी तरह से सुखाया जाता है और सूखने के बाद इसे दो से तीन बार इसी प्रकार धोकर सुखाया जाता है। इसे जितनी बार धोया और सुखाया जाए, उतनी ही इसकी कड़वाहट दूर होती जाती है। अंत में, सूखे पाउडर का उपयोग मसालेदार रेसिपी बनाने के लिए किया जाता है।

Share post:

Subscribe

Popular

More like this
Related

जम्मू-कश्मीर: आतंकियों से मुड़भेड़ में पांच जवान शहीद

अधिकारियों से मिली जानकारी के अनुसार डोडा जिले में...

दिल्ली कैपिटल्स ने रिकी पोंटिंग से तोड़ा सात साल पुराना नाता

ऑस्ट्रेलिया के पूर्व विश्व कप विजेता कप्तान रिकी पोंटिंग...

योगी सरकार का फैसला इलेक्ट्रिक वाहनों पर 2027 तक जारी रहेगी सब्सिडी

उत्तर प्रदेश सरकार की योगी सरकार ने अपनी इलेक्ट्रिक...