depo 25 bonus 25 to 5x Daftar SBOBET

FII: विदेशी निवेशकों ने भारतीय शेयर बाजार में किया सबसे अधिक 3,7317 करोड़ का निवेश

बिज़नेसFII: विदेशी निवेशकों ने भारतीय शेयर बाजार में किया सबसे अधिक 3,7317...

Date:

FII: देश के शेयर बाजार में भले ही संवेदी सूचकांक नीचे की ओर जा रहा हो। लेकिन विदेशी निवेशकों का भरोसा घरेलू शेयर बाजार में कायम है। आंकड़ों की बात करें तो 1 मई से लेकर 15 मई के बीच विदेशी संस्थागत निवेशकों ने सबसे अधिक 3,7317 करोड़ रुपए का निवेश किया है। 1 से 15 मई के बीच जिन सेक्टरों में सबसे अधिक निवेश हुआ उसमें ऑटोमोबाइल, कलपुर्जे में 4,705 करोड़, वित्तीय सेवा में 8,382 करोड़ और तेल एवं गैस में 2,319 करोड़ हैं।

विदेशी संस्थागत निवेशकों (FII) ने भारतीय बाजार में अगस्त 2022 के बाद से सबसे अधिक निवेश किया है। मई 2023 में अब तक विदेशी निवेशकों ने कुल 3,7317 करोड़ रुपए के शेयर खरीदे। जबकि अगस्त में 51,204 करोड़ रुपए के शेयर खरीदे थे। उसके बाद नवंबर में उन्होंने 36,239 करोड़ रुपए के शेयर खरीदे थे।

नेशनल सिक्योरिटीज डिपॉजिट लि.(NSDL) के डेटा के अनुसार, इस साल अभी तक एफआईआई ने कुल 22,738 करोड़ रुपए का निवेश किया। 2022 में इन्होंने 1.21 लाख करोड़ रुपए के निकासी की। जबकि 2021 में 25,752 करोड़ रुपए के शेयर खरीदे थे। इसी प्रकार 2020 के बाद का सालाना आधार पर यह अब तक रिकॉर्ड निवेश है।

आंकड़ों के अनुसार, 1 से 15 मई तक जिन सेक्टर में सबसे अधिक निवेश हुआ है। उसमें ऑटोमोबाइल एवं उसके कलपुर्जे 4,705 करोड़ रुपए, वित्तीय सेवा में 8,382 करोड़ रुपए और तेल एवं गैस में 2,319 करोड़ रुपए का निवेश शामिल है। आईसीआईसीआई सिक्योरिटीज के अनुसार, सात उभरते देशों में केवल भारत में मई 2023 में एफआईआई का निवेश अच्छा रहा है। भारतीय बाजार में एफआईआई के निवेश का मूल्य 46.7 लाख करोड़ रुपए पार पहुंचने की संभावना। कुल बाजार पूंजीकरण में एफआईआई का हिस्सा 17.2 प्रतिशत है।

इस कारण से एफआईआई कर रहे निवेश

भारत में विदेशी निवेशक तेजी से आकर्षित हो रहा है। क्योंकि भारत में महंगाई लगातार घट रही है। बेहतर मैक्रोइकनॉमिक की ​स्थिति है। रुपए में लंबे समय से एक स्तर पर स्थिरता है। कॉरपोरेट आय लगातार बढ़ रही है। इसी के साथ देश की जीडीपी पर दुनिया भर की एजेंसियों का सकारात्मक रुझान बना हुआ है।

एफआईआई निवेश का असर

FII जब सकारात्मक निवेश करते हैं। भारतीय बाजार में इसका असर दिखाई देता है। 2020 और 2021 में एफआईआई के भरोसे पर बाजार में काफी तेजी आई थी। लेकिन जब 2022 में एफआईआई ने रुपए निकाले तो बाजार में तेजी से गिरावट देखी गई। इस साल एफआईआई की वापसी के बाद भारतीय बाजार फिर से एक बार 62 हजार अंकों के पार पहुंच कर कारोबार कर रहा है।

Share post:

Subscribe

Popular

More like this
Related

सीटों की संख्या बताने से प्रशांत किशोर ने की तौबा

लोकसभा चुनाव में भाजपा को 300 से ज़्यादा सीटें...

ICCT20 वर्ल्ड कप: कनाडा ने आयरलैंड को 12 रनों से हराकर किया अपसेट

न्यूयॉर्क में खेले गए मैच में टी 20 विश्व...

यूपी में लागू होगी नई तबादला नीति, कैबिनेट ने दी मंजूरी

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने आज कैबिनेट बैठक में नई...