depo 25 bonus 25 to 5x Daftar SBOBET

वाराणसी में पीएम मोदी को ये 6 लोग दे रहे हैं चुनौती

उत्तर प्रदेशवाराणसी में पीएम मोदी को ये 6 लोग दे रहे हैं चुनौती

Date:

लोकसभा चुनाव 2024 के इस सातवें और आखिरी चरण में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी तीसरी बार वाराणसी सीट से चुनाव लड़ रहे हैं. इस सीट से पीएम मोदी समेत सात उम्मीदवार मैदान में हैं, 36 नामांकन पत्र खारिज हो गए हैं। वाराणसी में एक जून को मतदान होगा.

भारत निर्वाचन आयोग की वेबसाइट के मुताबिक, वाराणसी संसदीय सीट पर जांच के बाद 15 नामांकन पत्र स्वीकार किये गये हैं. कई प्रत्याशियों ने नामांकन पत्र के तीन और चार सेट दाखिल किये. 2014 के लोकसभा चुनाव में जब पीएम मोदी पहली बार इस सीट से चुनाव लड़े तो उनका मुकाबला 41 उम्मीदवारों से था. 2019 में पीएम के खिलाफ 26 उम्मीदवारों ने चुनाव लड़ा था.

पीएम मोदी के खिलाफ उम्मीदवारों में कांग्रेस पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष अजय राय मैदान में हैं, वो पहले भी कई बार नरेंद्र मोदी के खिलाफ चुनाव लड़ चुके हैं, वहीँ बहुजन समाज पार्टी से अतहर जमाल लारी मैदान में हैं. अजय राय के लिए आज वाराणसी के बांसगांव में एक बड़ी चुनावी रैली करके अखिलेश यादव और राहुल गाँधी ने माहौल बनाने की कोशिश की वहीँ अतहर जमाल लारी गली गली खुद जाकर अपना परिचय देते हुए बता रहे हैं कि वो भी बसपा के टिकट पर चुनाव लड़ रहे हैं. वाराणसी में किसे जीत मिलेगी उसका अंदाजा तो सबको है, बात सिर्फ मार्जिन की हो रही है, मार्जिन बढ़ेगा या घटेगा। दरअसल वाराणसी में इसी को हार जीत माना जायेगा।

चलिए जानते हैं कि प्रधानमंत्री मोदी के खिलाफ चुनावी मैदान में उतरने वाले उम्मीदवारों का एक संक्षिप्त ब्यौरा:

यह तीसरी बार है जब अजय राय वाराणसी सीट से चुनाव लड़ रहे हैं जहां वह पहले 2014 और 2019 के चुनावों में पीएम मोदी से हार गए थे। उनका करियर राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) के ‘कार्यकर्ता’ के रूप में शुरू हुआ, जिसके बाद उन्हें भाजपा की छात्र शाखा अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद (एबीवीपी) का संयोजक बनाया गया। अजय राय 1996, 2002 और 2007 में वाराणसी की कोलासला सीट से भाजपा के टिकट पर यूपी विधानसभा के लिए चुने गए। 2009 में लोकसभा टिकट नहीं मिलने के बाद उन्होंने भाजपा छोड़ दी। अजय राय की अचल संपत्ति 1.25 करोड़ रुपये है.

अतहर जमाल लारी वाराणसी के रहने वाले हैं, 1960 के दशक से समाजवादी राजनीति से जुड़े हुए हैं। हालाँकि, उन्होंने कभी चुनाव नहीं जीता। 1984 में, लारी ने जनता पार्टी के टिकट पर वाराणसी लोकसभा सीट से चुनावी शुरुआत की और हार गए। 2004 में लारी ने अपना दल से वाराणसी से लोकसभा चुनाव लड़ा। 2022 के विधानसभा चुनाव में लारी ने सपा का समर्थन किया, लेकिन चुनाव के बाद वह बसपा में शामिल हो गए। अतहर जमाल लारी की चल संपत्ति 6.52 लाख रुपये और अचल संपत्ति 1.8 करोड़ रुपये है

हैदराबाद के निवासी, कोलिसेट्टी शिव कुमार तिरुमाला तिरुपति देवस्थानम (एक ट्रस्ट जो आंध्र प्रदेश में तिरुमाला वेंकटेश्वर मंदिर सहित मंदिरों का प्रबंधन करता है) के पूर्व बोर्ड सदस्य हैं। उन्होंने कहा कि उन्होंने जीवन भर गाय संरक्षण पर काम किया है और हैदराबाद में तीन गौशालाओं के मालिक हैं, जिनमें 1,500 गायों को आश्रय दिया गया है। शिव कुमार युग तुलसी पार्टी से चुनावी मैदान में हैं. उनकी चल संपत्ति 36.19 लाख रुपये और अचल संपत्ति 2.02 करोड़ रुपये है।

अपना दल, कमेरावादी के गगन प्रकाश यादव भी प्रधानमंत्री मोदी के खिलाफ ताल ठोंक रहे हैं, अपना दल, कमेरावादी ने हाल ही में दलितों, पिछड़ों और अल्पसंख्यक समुदायों को प्रतिनिधित्व की कमी का दावा करते हुए सपा से नाता तोड़ लिया है। कुछ दिन पहले एक सड़क दुर्घटना में अपने भाई को खोने के बाद से गगन यादव का अभियान रुका हुआ है। उनकी चल संपत्ति 19.16 लाख रुपये और अचल संपत्ति 66 लाख रुपये है.

दिनेश कुमार वाराणसी के सिकरौल से तीन बार के पार्षद हैं। वह पिछले 15 वर्षों से राजनीति में सक्रिय हैं। बताया जाता है कि वाराणसी से नामांकन दाखिल करने तक वह भाजपा के साथ थे। अब आज़ाद उम्मीदवार के रूप में मैदान में हैं. उनकी चल संपत्ति 16.40 लाख रुपये और अचल संपत्ति 10 लाख रुपये है.

इसी तरह नई दिल्ली स्थित एक सामाजिक कार्यकर्ता, संजय कुमार तिवारी आज़ाद उम्मीदवार के रूप में हैं वो श्रमिकों और श्रमिकों के कल्याण के लिए आंदोलनों का हिस्सा रहे थे। चुनाव लड़ने के अपने फैसले पर, तिवारी ने कहा कि वो गांधीवादी दर्शन का पालन करते हैं, वाराणसी से चुनाव लड़ने का फैसला उन्होंने इसलिए किया क्योंकि वो पीएम मोदी के आलोचक हैं. उनकी चल संपत्ति 11.46 लाख रुपये और अचल संपत्ति 29 लाख रुपये है.

Share post:

Subscribe

Popular

More like this
Related

चुनाव बाद पहली बार वाराणसी पहुंचे मोदी, बताई लंगड़ा आम की कहानी

तीसरी बार प्रधानमंत्री बनने के बाद नरेंद्र मोदी मंगलवार...

हेड कोच के लिए गंभीर का इंटरव्यू, एलान एक औपचारिकता

पूर्व भारतीय सलामी बल्लेबाज गौतम गंभीर का टीम इंडिया...

सेंसेक्स-निफ़्टी नई उड़ान पर

बुधवार को भी शेयर बाजार में सकारात्मक रुख जारी...

स्पीकर पद पर अड़ गयी TDP, क्या करेंगे मोदी-शाह

अमित बिश्नोईतमाम राजनीतिक चर्चाओं और अफवाहों के बावजूद नरेंद्र...