depo 25 bonus 25 to 5x Daftar SBOBET
Home हेल्थ स्ट्रेस मैनेजमेंट क्या है? हिंदी में पढ़ें

स्ट्रेस मैनेजमेंट क्या है? हिंदी में पढ़ें

0
90
स्ट्रेस मैनेजमेंट क्या है
स्ट्रेस मैनेजमेंट क्या है

Stress Management In Hindi: जब हम तनाव शब्द सुनते हैं तो हमें लगता है कि हम भी तनाव महसूस कर रहे हैं। लेकिन ऐसा क्यों है? ऐसा इसलिए है क्योंकि इस समय हर कोई किसी न किसी तरह की समस्या से गुजर रहा है, लेकिन तनाव की मात्रा हर व्यक्ति के लिए अलग-अलग है। ऐसे कई कारण हैं जिनकी वजह से लोग तनाव महसूस करते हैं, जैसे पर्याप्त पैसा न होना, परिवार के साथ झगड़ा, पर्याप्त समय न होना, बहुत अधिक काम करना, पर्याप्त नींद न लेना, शारीरिक रूप से अस्वस्थ होना, बीमार होना, या जिस स्थान पर हम रहते हैं।

तनाव प्रबंधन क्या है? | What is stress management?

Stress Management In Hindi: तनाव महसूस होने पर अपने मानसिक स्वास्थ्य का ख्याल रखना। जब हमें बहुत अधिक तनाव होता है, तो हम दुखी हो सकते हैं, अकेले रहना चाहते हैं और आसानी से पागल हो सकते हैं। हमारा मस्तिष्क भी प्रभावित हो सकता है और हमारे शरीर से कुछ तरल पदार्थ निकलने लगता है जो हमें और भी अधिक दुखी महसूस करा सकता है। लेकिन हम अपने जीवन जीने के तरीके में बदलाव करके अपने तनाव को कम कर सकते हैं और इन बुरे प्रभावों को रोक सकते हैं। इसे तनाव प्रबंधन कहा जाता है।

यह सीखना वास्तव में महत्वपूर्ण है कि तनाव को कैसे संभालना है क्योंकि यदि हम ऐसा नहीं करते हैं, तो यह हमारे लिए बहुत सारी समस्याएं पैदा कर सकता है। तनाव हमें मन और शरीर दोनों से बीमार बना सकता है। यदि हम बेहतर महसूस करना चाहते हैं और तनाव से छुटकारा पाना चाहते हैं, तो हमें यह सीखना होगा कि इसे कैसे प्रबंधित किया जाए। इसका मतलब यह जानना है कि जब हम तनाव महसूस करें तो क्या करें और खुद को बहुत अधिक तनाव से सुरक्षित रखने के लिए अच्छे विकल्प चुनें।

तनाव को कैसे प्रबंधित करें | How to manage stress

खुश और स्वस्थ रहने के लिए लोगों के लिए यह सीखना ज़रूरी है कि तनाव से कैसे निपटा जाए। यदि कोई व्यक्ति तनाव का प्रबंधन नहीं करता है, तो यह भविष्य में उसके दिमाग में समस्याएं पैदा कर सकता है और उसके जीवन को वास्तव में कठिन बना सकता है। इसलिए तनाव एक बड़ी समस्या बन जाए उससे पहले इसका ध्यान रखना जरूरी है।

  1. सकारात्मक दृष्टिकोण रखना | Having a positive attitude

कभी-कभी चीजें उस तरह नहीं होतीं जैसी हम चाहते हैं और समस्याएं सामने आती हैं। हम हर चीज़ को नियंत्रित नहीं कर सकते हैं और कभी-कभी ये समस्याएं बिना किसी के कारण के अपने आप हो जाती हैं। जब ऐसा होता है, तो चिंतित होना और तनावग्रस्त होना उपयोगी नहीं है। इसके बजाय, हमें सकारात्मक रहने की कोशिश करनी चाहिए और समस्या को हल करने के तरीकों के बारे में सोचना चाहिए। कुछ लोग नकारात्मक विचारों में फंस जाते हैं और ऐसी बातें कहते हैं, “मेरे साथ हमेशा ऐसा क्यों होता है?” या “मैं कुछ नहीं कर सकता।” लेकिन उन नकारात्मक विचारों को दूर करना और समाधान खोजने पर ध्यान केंद्रित करना महत्वपूर्ण है। तनाव महसूस करने से बचने का यही एकमात्र तरीका है। इसलिए, हमें समस्या पर अटके रहने के बजाय उसे ठीक करने का रास्ता खोजने पर ध्यान देना चाहिए।

  1. घटनाओं को स्वीकार करना | Accepting events

घटनाओं को स्वीकार करने का मतलब है कि जो चीजें घटित होती हैं, उनके साथ ठीक होना, भले ही वे वैसी न हों जैसी आप चाहते थे या अपेक्षा करते थे। इसका मतलब है कि जब चीजें आपके अनुरूप न हों तो परेशान या क्रोधित न होना, बल्कि आगे बढ़ने और स्थिति का सर्वोत्तम लाभ उठाने में सक्षम होना।

जब कुछ बुरा होता है तो बेहतर महसूस करने के लिए, हमें बहाने बनाने या दूसरों को दोष देने के बजाय इसे स्वीकार करने की आवश्यकता है। यदि हम इसे स्वीकार नहीं करते तो हम और भी अधिक तनावग्रस्त हो सकते हैं। इसलिए, समस्या से बचने के बजाय उसका सामना करना और उसे ठीक करने का प्रयास करना महत्वपूर्ण है। यदि हम अपनी समस्याओं से बचते हैं, तो वे और भी बदतर हो जाएंगी और हम लंबे समय तक तनावग्रस्त महसूस करेंगे।

  1. ध्यान और व्यायाम करें | Do meditation and exercise

कोर्टिसोल हार्मोन हमारे शरीर में तनाव हार्मोन की तरह होता है। जब हमारा मस्तिष्क कोर्टिसोल छोड़ता है, तो यह हमें अधिक तनाव महसूस कराता है। लेकिन हम ध्यान और व्यायाम जैसी चीजें करके अपने तनाव के स्तर को कम कर सकते हैं। ये गतिविधियाँ हमारे मस्तिष्क को कॉर्टिकोट्रोपिन-रिलीज़िंग हार्मोन नामक एक अलग हार्मोन जारी करने में मदद करती हैं, जो तनाव को कम करने में बहुत मदद करता है। इसलिए तनाव को प्रबंधित करने के लिए ध्यान और व्यायाम करना महत्वपूर्ण है।

  1. सकारात्मक सोच वाले लोगों के साथ समय बिताएं | Spend time with positive thinking people

जिन लोगों के साथ हम समय बिताते हैं उनका हमारे सोचने और महसूस करने के तरीके पर बड़ा प्रभाव पड़ सकता है। जब हम तनाव महसूस कर रहे हों, तो ऐसे लोगों के आसपास रहना एक अच्छा विचार है जो सकारात्मक सोचते हैं। ये ऐसे दोस्त हो सकते हैं जो हमेशा खुश रहते हैं और आपके साथ रहते हैं, या परिवार के सदस्य हो सकते हैं जो कठिन परिस्थितियों में आपका समर्थन करते हैं और आपको समस्याओं से निपटने के अच्छे तरीके बताते हैं। सकारात्मक लोग वे होते हैं जो आसानी से परेशान नहीं होते या दूसरों को बुरा महसूस नहीं कराते। वे अन्य लोगों की समस्याओं से ऐसे निपटते हैं जैसे कि वे उनकी अपनी समस्याएँ हों और समाधान खोजने में मदद करने का प्रयास करते हैं।

  1. अपना पसंदीदा काम करने में समय व्यतीत करें | Spend time doing what you love

यदि कोई तनावग्रस्त महसूस करता है, तो उसे बेहतर महसूस करने में मदद करने के लिए वह काम करना चाहिए जो उसे पसंद हो। यह पेंटिंग करना, सफाई करना या फिल्में देखना हो सकता है। जब आप ये चीजें करते हैं, तो आपका शरीर हार्मोन नामक विशेष रसायन छोड़ता है जो आपको खुश और शांत महसूस कराता है। वैज्ञानिकों ने इसका अध्ययन किया है और पाया है कि जो लोग ऐसी गतिविधियाँ करते हैं जिनमें उन्हें आनंद आता है, वे दूसरों की तुलना में कम तनावग्रस्त होते हैं।