depo 25 bonus 25 to 5x Daftar SBOBET

वरिष्ठ नागरिकों से छूट वापस लेकर रेलवे ने कमाए 5800 करोड़

फीचर्डवरिष्ठ नागरिकों से छूट वापस लेकर रेलवे ने कमाए 5800 करोड़

Date:

भारतीय रेलवे एक समय देश के वरिष्ठ नागरिकों को किराये में काफी रियायत देता था लेकिन मोदी सरकार ने वो रियायत उनसे छीन ली थी. अब एक RTI से जानकारी मिली है कि वरिष्ठ नागरिकों को मिलने वाली रियायत हटाने से सरकार 5800 करोड़ रुपये से अधिक का फायदा हुआ है. बता दें कोरोना काल के दौरान रेल मंत्रालय ने देश भर में लॉकडाउन की घोषणा के बाद ट्रेन किराए में सीनियर सिटीजन्स को दी जाने वाली छूट वापस ले ली थीं. कोरोना तो चला गया लेकिन वो रियायते वरिष्ठ नागरिकों को वापस नहीं लौटाई गयी.

बता दें कि रेलवे के मानदंडों के मुताबिक 60 साल या उससे अधिक आयु के पुरुष और ट्रांसजेंडर और 58 वर्ष या उससे ज़्यादा उम्र की महिलाएं सीनियर सिटिज़न मानी जाती हैं. रेलवे महिलाओं को 50 प्रतिशत और पुरुष व ट्रांसजेंडर को 40 प्रतिशत की किराये में छूट देता था लेकिन सरकार के कोरोना आपदा नहीं बल्कि अवसर बनकर आया और उसने बहुत सी रियायतों को ख़त्म कर दिया जिसमें रेल किराये में वरसिंह नागरिकों को मिलने वाली छूट भी शामिल थी. अब वरिष्ठ नागरिकों को ट्रेन यात्रा के लिए अन्य यात्रियों के बराबर पूरा किराया देना होता है.

आरटीआई आवेदनों के जवाब में भारतीय रेलवे ने बताया कि सीनियर सिटिज़न्स के लिए छूट वापस लेने के बाद 20 मार्च 2020 से 31 जनवरी 2024 तक रेलवे को 5,875 करोड़ रुपए से अधिक की कमाई हुई है. आरटीआई आवेदनों के जवाब में मुहैया कराए गए डेटा से पता चलता है कि 4 वर्षों में 13 करोड़ पुरुषों, नौ करोड़ महिलाओं और 33,700 ट्रांसजेंडर वरिष्ठ नागरिकों ने ट्रेन यात्रा की और उनके द्वारा सामान्य यात्रियों के बराबर पैसे देकर खरीदे गए टिकटों से रेलवे को लगभग 13,287 करोड़ रुपये का कुल राजस्व प्राप्त हुआ. अगर कैलकुलेशन करें तो रेलवे को 5875 करोड़ से अधिक का राजस्व प्राप्त हुआ’.

Share post:

Subscribe

Popular

More like this
Related

CSK ने केकेआर के जीत की गाड़ी को पटरी से उतारा

आईपीएल 2024 में जीत की राह पर दौड़ रही...

मोदी जी, शिवसेना UBT आपकी डिग्री की तरह फ़र्ज़ी नहीं है, उद्धव का पलटवार

प्रधानमंत्री मोदी के शिवसेना UBT को फ़र्ज़ी शिवसेना वाले...

कौन हैं इकरा हसन, जिन्होंने लंदन में किया था सीएए का विरोध, अब यूपी में लड़ेंगी चुनाव

पारुल सिंघल Iqra Hasan:पश्चिमी उत्तर प्रदेश में बीते कुछ सालों...