14 नवंबर को क्यों मनाते हैं बाल दिवस?

पंडित जवाहर लाल नेहरू स्वतंत्र भारत के पहले प्रधानमंत्री बने,  उन्हें चाचा नेहरू के नाम से भी जाना जाता है। बच्चों से इतना प्यार था कि उनके जन्मदिन 14 नवंबर को भारत में बाल दिवस के रूप में मनाने का फैसला किया।

पंडित जवाबर लाल नेहरू ने अपने एक प्रसिद्ध भाषण में कहा था, "आज के बच्चे कल का भारत होंगे. जिस तरह से हम उनका पालन-पोषण करेंगे, उससे देश का भविष्य तय होगा.'

बाल दिवस का इतिहास

पं. जवाहरलाल नेहरू का वर्ष 1964 में निधन हो गया, और उनकी याद में, संसद ने उनके जन्मदिन को बाल दिवस समारोह प्रस्ताव जारी किया।  पहले भारत में बाल दिवस 20 नवंबर को मनाया जाता था।

चाचा नेहरू के बारे में रोचक बातें

पंडित जवाहरलाल नेहरू को कभी भी नोबेल पुरस्कार नहीं मिला, हालांकि उन्हें वर्ष 1950 और 1955 के बीच 11 बार नामांकित किया गया था।

1907 में कैम्ब्रिज के ट्रिनिटी कॉलेज में दाखिला लेने के बाद नेहरू जी ने वर्ष 1910 में नैचुरल साइंस में ऑनर्स की डिग्री हासिल की.

वह अगस्त 1912 में भारत लौट आए और इलाहाबाद उच्च न्यायालय में एक वकील के रूप में नामांकन करके खुद को एक बैरिस्टर के रूप में स्थापित करने का प्रयास किया.

देश की आजादी की लड़ाई के दौरान पंडित जवाहरलाल नेहरू को नौ अलग-अलग बार जेल भेजा गया था. उन्होंने 1935 में जेल में रहते हुए एक आत्मकथा भी लिखी थी. इसका नाम "टुवार्ड फ्रीडम" रखा गया था, जिसे 1936 में संयुक्त राज्य अमेरिका में जारी किया गया था.

27 मई 1964 को पंडित नेहरू का दिल का दौरा पड़ने से निधन हो गया था और लगभग 1.5 मिलियन लोग उनके दाह संस्कार के साक्षी बने थे. पंडित जवाहरलाल नेहरू को "आधुनिक भारत के वास्तुकार" के रूप में भी जाना जाता है.

हमे फॉलो करे !