Site icon Buziness Bytes Hindi

शेयर बाजार में अस्थिरता बढ़ी, फिर ऊपर से नीचे आया सेंसेक्स-निफ़्टी

sensex

देश में लोकसभा चुनाव अपने अंतिम पड़ाव में चल रहा है जिसे देखते हुए शेयर बाजार में अस्थिरता बढ़ती जा रही है। आज इंडिया विक्स 4.59% उछलकर 24.26 पर पहुंच गया। यह 22 महीनों में सबसे ज्यादा आंकड़ा है. इससे बाजार में उथल-पुथल बढ़ गई है. मंगलवार को शेयर बाजार हरे निशान में खुलने के बाद लाल निशान पर बंद हुआ। बीएसई सेंसेक्स 220.05 अंक गिरकर 75,170.45 पर बंद हुआ। वहीं, एनएसई निफ्टी 44.30 अंक गिरकर 22,888.15 अंक पर बंद हुआ।

बाजार विशेषज्ञों का कहना है कि बाजार में चुनाव नतीजों को लेकर तस्वीर साफ नहीं है. इससे भय का माहौल बना हुआ है. यह स्थिति 4 जून तक देखने को मिलेगी. उसके बाद ही बाजार की दिशा तय होगी. आज घरेलू बाजारों में शुरुआती कारोबार में तेजी देखने को मिली. लेकिन वो बढ़त को बरकरार नहीं रख सका. सेंसेक्स में सूचीबद्ध कंपनियों में विप्रो, लार्सन एंड टुब्रो, महिंद्रा एंड महिंद्रा, एचडीएफसी बैंक लाभ में रहे। टेक महिंद्रा, आईटीसी, पावर ग्रिड, एशियन पेंट्स और टाइटन के शेयरों को नुकसान हुआ। आम चुनाव के नतीजे 4 जून को घोषित किये जायेंगे.

जियोजित फाइनेंशियल सर्विसेज के शोध प्रमुख विनोद नायर ने कहा, ”हालिया तेजी के बाद भारतीय बाजार में थोड़ी गिरावट आई है। अनिश्चितता के कारण उतार-चढ़ाव जारी रह सकता है, इसकी वजह यह है कि चुनाव नतीजों का समय करीब आता जा रहा है. कुछ ऑटो, बैंक और आईटी शेयरों में तेजी के चलते सोमवार को कारोबार के दौरान सेंसेक्स और निफ्टी रिकॉर्ड ऊंचाई पर पहुंच गए। हालाँकि, बाद में दोनों बेंचमार्क सूचकांक लाल निशान में बंद हुए क्योंकि निवेशकों ने मुनाफावसूली की। विश्लेषकों के मुताबिक, मझोली और छोटी कंपनियों के शेयरों का प्रदर्शन अच्छा नहीं रहा, जबकि दवा और दैनिक उपयोग का सामान बनाने वाली कंपनियों के शेयरों में तेजी रही।

Exit mobile version