Viral Video: डूडा में रिश्वतखोरी,रिश्वत लेते आउटसोर्सिग कर्मचारी का वीडियो वायरल

 
Viral Video

मेरठ। मेरठ डूडा आफिस हमेशा सुर्खियों में रहता है। बता दें ​कि डूडा में रिश्वतखोरी को लेकर आए दिन मामले सामने आते रहते हैं। इन मामलों में लीपापोती के अलावा और कुछ नहीं होता। अब फिर से डूडा आफिस में काम करने वाले कर्मचारी का 20 हजार रुपये की रिश्वत लेते हुए का वीडियो वायरल हुआ है। इसे बाद से डूडा आफिस में सन्नाटा पसरा हुआ है। रिश्वत लेता हुआ कर्मचारी आउटसोर्सिग कंपनी का है जो कि डूडा मेरठ के आफिस में तैनात है। यह कर्मचारी 20 हजार रुपये की रिश्वत ले रहा है। जो कि कैमरे में कैद हुई है। पूरा प्रकरण जिलाधिकारी दीपक मीणा के संज्ञान में आया तो उन्होंने इसके लिए डूडा मुख्य कार्यालय पत्र लिखकर कर्मचारी को हटाने और आउटसोर्सिग कंपनी को ब्लैक लिस्टेड करने को कहा है। 

बताया जाता है कि रिश्वतखोर कर्मचारी प्रधानमंत्री आवास योजना के नाम पर रिश्वत ले रहा था। जिले में प्रधानमंत्री आवास योजना के नाम खुलेआम रिश्वत का खेल जारी है। प्रधानमंत्री आवास योजना में मकान दिलाने के नाम पर डूडा में कार्यरत आउटसोर्सिग के एक कर्मचारी द्वारा रिश्वत लेने का वीडियो तेजी से वायरल हो रहा है। वीडियो में डूडा आफिस में कार्यरत ये आउटसोर्सिग कंपनी का कर्मचारी मेज की आड़ में चुपचाप नोट जेब में रखते दिखाई दे रहा है। जिलाधिकारी मेरठ ने वीडियो को देखने के बाद रिश्वतखोर कर्मचारी को हटाने के लिए निदेशालय को पत्र लिखा है। 

Read also: Seafood Market in Wuhan: वुहान के सीफूड बाजार से फैला था जानलेवा कोरोना वायरस,जीवित जानवरों में मौजूद था संक्रमण

कर्मचारी का रिश्वत लेते जो वीडियो वायरल हुआ है। उसमें एक व्यक्ति डूडा आफिस में आता है। व्यक्ति  आकर कुर्सी पर लाल रंग टीशर्ट बैठे कर्मी के पास बैठ जाता है। बाहर से आया व्यक्ति जेब से रुपये निकालकर गिनता है। ये सभी 500—500 रुपये के नोट है। इसके बाद बाहर से आया व्यक्ति 20 हजार रुपए गिनकर लाल टीशर्ट पहने कर्मचारी को देकर चला जाता है। डूडा कर्मचारी पैसे लेकर जेब में रख लेता है। पूरा घटनाक्रम की चुपचाप फोन से वीडियो बना लेता है। जो वायरल हो रहा है। डीएम दीपक मीणा ने बताया कि वीडियो में जो कर्मी पैसे लेता नजर आ रहा है, वो आउटसोर्सिंग कंपनी के माध्यम से काम कर रहा है। एजेंसी के माध्यम से उसे पद पर रखा है। आउटसोर्सिंग एजेंसी हायर सीधे निदेशालय से होती है। निदेशालय को एजेंसी को ब्लैकलिस्ट करने और इस कर्मचारी को हटाने का पत्र भेजा है।