विश्व के विकास में लोक सेवकों की भूमिका महत्वपूर्ण : डी. हेर्वे

 
United Nations Public Service Day

मेरठ। बागपत रोड स्थित विद्या नॉलेज पार्क में आज गुरुवार को इंस्टीट्यूट ऑफ फैशन टेक्नोलॉजी और गोल्डन स्पैरोज के संयुक्त तत्वावधान में संयुक्त राष्ट्र लोक सेवा दिवस का आयोजन किया गया। इसमें अन्तर्राष्ट्रीय जगत की हस्तियों के साथ देश के प्रतिष्ठित वक्ताओं ने अपने विचार प्रकट किए। मुख्य अतिथि के रूप में पश्चिम अफ्रीका के राजनायिक कॉउलिबैली डी. हेर्वे उपस्थित थे। उन्होंने कहा कि आज के दिन संयुक्त राष्ट्र लोक सेवकों की सेवा को सम्मान देते हुए सार्वजनिक क्षेत्र में युवाओं को कैरियर बनाने के लिए प्रेरित करता है। इस अवसर पर वक्ताओं ने कहा कि विश्व के विकास में लोक सेवकों की भूमिका महत्वपूर्ण है। उन्होंने कहा कि कोविड जैसी महामारी के समय में लोक सेवकों ने दिन-रात मानवता की सेवा की। 

बता दें कि संयुक्त राष्ट्र प्रत्येक वर्ष 23 जून को लोक सेवा दिवस के रूप में मनाता है। जिसका उद्देश्य सार्वजनिक सेवा के मूल्य और गुणों को मान्यता प्रदान करना है। कार्यक्रम का शुभारंभ दीप प्रज्ज्वलन और विद्यागान के साथ हुआ। विद्या इंस्टीट्यूट ऑफ फैशन टेक्नोलॉजी की निदेशिका डा.रीमा वार्ष्णेय ने पौध भेटकर अतिथियों का स्वागत किया। ऑल इंडिया रेडियो एफएम रेनबो की आरजे आरती मल्होत्रा और गिनिज वर्ल्ड रिकार्ड विजेता व लेखक डा.तिलक तंवर ने पूरे कार्यक्रम की रूपरेखा प्रस्तुत की। 

Read also: आयरलैंड और इंग्लैंड में भारतीय क्रिकेट टीम के मैनेजर बने मेरठ के डॉ. युद्धवीर

United Nations Public Service Day

पैनल चर्चा में आईसीएस के निदेशक परिमल कुमार ने कहा कि यदि समस्या है तो अवसर भी है और जितनी समस्याएं हैं उतने अवसर भी हैं। जरूरत बस उन्हें पहचानने की है। अनु गुप्ता जैन ने कहा कि शारीरिक स्वास्थ्य के साथ मानसिक, आध्यात्मिक और सामाजिक स्वास्थ्य की चिंता भी जरूरी है। स्वरलीन कौर ने कहा कि यह देखना जरूरी है कि दुनिया में आप सबसे अलग कैसे हैं? हॉटवे थर्मल टेक के सीईओ शफीउल्लाह खान ने गुणवत्तापूर्ण शिक्षा के साथ उद्यमी बनने का मंत्र साझा किया। बीना यादव ने लैंगिक असमानता पर कहा कि बदलाव बहुत हुआ है, लेकिन क्या यह काफी है? निर्णय लेने के लिये साहस चाहिये। सर्जिकल हब संस्थापक दिव्या कपूर ने कहा कि लैंगिक असमानता को दूर करने के लिये घर से पहल करनी होगी। मीनाक्षी चौहान राणा ने कहा कि व्यक्ति स्वयं आत्मनिर्भर होगा तभी वह लोक सेवा भी कर सकता है। पेशेवर सिंगर, मॉडल गुलशन सुमन ने कहा कि जीवन का स्तंभ राग और द्वेष पर टिका है। आपका परिवेश से संबंध कैसे हैं, इसका आकलन करना चाहिये। इस मौके पर उपस्थित विद्यार्थियों ने वक्ताओं से प्रश्न भी पूछे। 

कार्यक्रम के अंत में अतिथियों को स्मृति चिह्न तथा विद्यार्थियों को प्रमाण-पत्र बांटे गए।  कार्यक्रम का संयोजन आरती मल्होत्रा और डा.तिलक तंवर ने किया। संचालन छात्रा अनुष्का त्यागी, अनम सैफी, दीक्षा बुद्धिराजा और प्रेक्षा जैन ने संयुक्त रूप से किया। इस मौके पर पत्रकारिता एवं जनसंचार विभाग की विभागाध्यक्ष डा.ममता भाटिया के साथ फैशन, फाईन आर्ट विभागों के प्राध्यापकगण और बड़ी संख्या में विद्यार्थी मौजूद रहे।