Criminal Badan Singh Badoo: तीन साल से फरार बदन सिंह बददों का पता ना तो मेरठ पुलिस को ना एसटीएफ को,दहशत में विरोधी

 
 Criminal Badan Singh Badoo

मेरठ। 28 मार्च 2019 को पुलिस कस्टडी से फरार हुआ मोस्ट वांटेड बदनसिंह बद्दो का नाम एक बार फिर से सुर्खियों में हैं। बदन सिंह बददो फरारी के बाद से कहां है इसके बारे में आज तक ना तो मेरठ पुलिस पता लगा सकी है और ना यूपी एसटीएफ। ये अलग बात है कि बदन सिंह बददो पुलिस की हर गतिविधियों पर अपनी नजर रखता है। मेरठ में कानून व्यवस्था की समीक्षा बैठक के दौरान मेरठ प्रभारी मंत्री नंद गोपाल गुप्ता नंदी ने बदन सिंह की गिरफ्तारी नहीं होने पर मेरठ के पुलिस अधिकारियों से नाराजगी जताई थी। जिसके बाद पुलिस की सरगर्मी अब बददों के खिलाफ एक बार फिर से बढ़ गई है। वहीं दूसरी ओर जिन लोगों को बदन सिंह बददो से खतरा है। उनकी भी बेचैनी बदन सिंह बददों के करीबी बदमाशों ने बढ़ा दी है। बताया जाता है कि बदन सिंह बददो गिरोह के कई लोग अब शहर में दिखाई दे रहे हैं। जिसके बाद कुछ लोगों ने बदन सिंह के इन शूटरों से अपनी जान का खतरा बताते हुए पुलिस अधिकारियों से सुरक्षा की मांग की है। बद्दो की गिरफ्तारी नहीं होने पर मेरठ प्रभारी मंत्री गोपाल नंदी ने भी पुलिस प्रशासन के अधिकारियों से जवाब तलब किया है। वहीं मेरठ पुलिस का इस बारे में जवाब है कि बद्दो की तलाश में पुलिस के साथ एसटीएफ समेत कई एजेंसियां लगी हैं।

वहीं बदन सिंह बद्दो लगातार सोशल मीडिया पर सक्रिय रहता है। बदन सिंह बद्दो से आज भी महानगर के कुछ लोगों को खतरा है। यह कारण है  कि पुलिस जानती है। इस वजह से मेरठ में पुलिस ने 12 से अधिक लोगों को सुरक्षा मुहैया कराई है। बद्दो का पुलिस सुराग नहीं लगा पाई। इसको लेकर भी लोगों में आक्रोश व्याप्त है। बदन सिंह बद्दो से जिन लोगों को खतरा है वो पुलिस अधिकारियों को इनपुट देने के साथ सुरक्षा मांग रहे हैं। नाम न छापने की शर्त पर पीड़ितों ने बताया है कि बद्दो के कई गुर्गे शहर में घूम रहे हैं। वह फिर से वारदात की फिराक में हैं। 

Read also: UP Crime Scene: इवेंट कंपनी डायरेक्टर ने घर बुलाकर मैनेजर के साथ किया दुष्कर्म का प्रयास

बता दें कि मेरठ में अधिवक्ता रविंद्र गुर्जर की हत्या में बद्दो को आजीवन कारावास सजा हुई थी। आज से तीन साल पहले 28 मार्च 2019 को बदन सिंह बद्दो ने फर्रूखाबाद पुलिस को दिल्ली रोड स्थित मुकुट महल में शराब पिलाई और फिर पुलिस कस्टडी से फरार हो गया था। उसकी फरारी में मेरठ के करीब 15 लोगों के नाम सामने आए थे। इन्हें पुलिस ने जेल भेज दिया था। वहीं बददों का कोई सुराग नहीं लगने पर उसको ढाई लाख का इनामी बदमाश बता दिया था।  एएसपी ब्रह्मपुरी विवेक यादव ने बताया कि बद्दो की कोठी ध्वस्त हो चुकी है। उसके करीबियों पर कार्रवाई हो चुकी है। बद्दो करीबी की संपत्ति जल्द जब्त करेंगे। पुलिस का मानना है कि बदन सिंह बद्दो अपराध करके अर्जित संपत्ति साथी को देता था। इसमें डिपिन सूरी सहित कई लोगों के नाम पुलिस की सूची में शामिल हैं। पुलिस अब सभी कुख्यात के करीबियों का पता लगा रही है।