Gangajal Project: मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने ग्रेटर नोएडा को दी 1670 करोड़ की सौगात

उत्तर प्रदेशGangajal Project: मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने ग्रेटर नोएडा को दी 1670 करोड़...

Date:

नोएडा। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने आज मंगलवार को ग्रेटर नोएडा को गंगाजल परियोजना सहित 1670 करोड़ रुपए की विभिन्न योजनाओं की सौगात दी। ग्रेटर नोएडा के नॉलेज पार्क-4 में मुख्यमंत्री ने परियोजनाओं का लोकार्पण एवं शिलान्यास किया। ग्रेटर नोएडा में 85 क्यूसेक गंगाजल परियोजना की शुरुआत के बाद घरों में स्वच्छ पीने योग्य जल की आपूर्ति संभव होगी। इस मौके पर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि गौतमबुद्धनगर देश ही नहीं, विदेश में भी निवेश का सबसे अच्छा गंतव्य बना है। पिछले साढ़े पांच वर्षों में नोएडा में नई-नई चीजें आई यहां पर मेट्रो प्रारंभ हुई। एशिया का सबसे बड़ा एयरपोर्ट यहां जेवर में बन रहा है। फिल्म सिटी बनने जा रही है। मेडिकल डिवाइस पार्क भी बनने जा रहा है। मुख्यमंत्री ने कहा कि ये क्षेत्र लाखों नौजवानों के लिए रोजगार, लाखों परिवारों को स्वावलंबन की ओर अग्रसर करने की ओर बढ़ रहा है। भाजपा सरकार में यहां निवेश के नए क्षेत्र बन रहे हैं। उन्होंने कहा पहले हम केवल आईटी और आईटीएमएस में निवेश देखते थे। लेकिन अब मल्टी मॉडल ट्रांसपोर्ट और मल्टी मॉडल लॉजिस्टक हब के रूप में भी ये क्षेत्र तेजी से बढ़ रहा है।
मुख्यमंत्री ने कहा, अब तक लोग गंगा स्नान करने जाते थे। लेकिन अब गंगा मइया खुद लोगों के घर तक स्वच्छ जल देने आई हैं। 85 क्यूसेक गंगा जल ग्रेटर नोएडा में उपलब्ध होने जा रहा है। इसके लिए 176 किमी. पाइपलाइन का नेटवर्क बिछाई गई है। पांच एकड़ में 19 रिजर्व वायर का निर्माण किया गया है। 376 करोड़ रुपए की धनराशि व्यय की गई है। जिससे ग्रेटर नोएडा के करीब पांच लाख लोगों को शुद्ध पेयजल उपलब्ध हो सके। उन्होंने कहा हमने पहले ही बोला था कि किसान की जो समस्या होगी हम बातचीत से निदान करेंगे। किसानों के साथ, युवाओं के साथ, यहां काम करने वाले मजदूरों के साथ संवाद करेंगे। जो माफिया प्रवृति के तत्व हैं, उनके साथ कठोरता से बर्ताव किया जाएगा।
मुख्यमंत्री ने कहा कि साढ़े 5 वर्ष पहले ये पूरा क्षेत्र मुख्यमंत्रियों के लिए अभिशप्त माना जाता था। पूरा क्षेत्र विकास की योजनाओं में गिद्ध दृष्टि लगाए हुए माफिया की चपेट में था।
मुख्यमंत्री ने पिछली सरकारों की खामियों को गिनाते हुए कहा कि अगर पिछली सरकारें होतीं तो ये डाटा सेंटर यहां कभी नहीं लग पाता। ये कमजोरी अथॉरिटी की नहीं, पॉलिटिकल लीडरशिप की थी। सीएम ने कहा, कभी जेवर क्षेत्र अपराध के गढ़ के रूप में जाना जाता था। जुलाई 2017 में वीभत्स कांड हुआ था। उससे पूरी मानवता दहल उठी थी। हमने तब अपनी कार्रवाई प्रारंभ की थी। हमने अपनी इच्छाशक्ति से इनके खिलाफ लड़ना प्रारंभ किया। कार्रवाई आगे बढ़ी और आज उत्तर प्रदेश से संगठित अपराध खत्म हुआ।

Share post:

Subscribe

Popular

More like this
Related

FIFA World Cup 2022: पुर्तगाल ने जीता मैच, घाना ने दिल

क्रिस्टियानो रोनाल्डो की टीम पुर्तगाल ने घाना को हराकर...

2000 रुपये में IRCTC का टूर पैकेज, जाने क्या है इसमें खास !

लाइफस्टाइल डेस्क। IRCTC Tour Package - अगर आप कम...