Site icon Buziness Bytes Hindi

Uttarakhand Breaking: हरिद्वार सहित उत्तर प्रदेश के रेलवे स्टेशनों को बम से उड़ाने की धमकी,जैश—ए—मोहम्मद के नाम से मिला पत्र

Uttarakhand Breaking

#image_title

हरिद्वार। हरिद्वार सहित उप्र के प्रमुख रेलवे स्टेशनों को बम से उड़ाने की धमकी मिली है। ये धमकी पाकिस्तानी आतंकी संगठन जैश—ए—मोहम्मद के नाम से दी गई है। पाक आतंकी जैश—ए—मोहम्मद के नाम से दी गई इस धमकी के बाद प्रमुख रेलवे स्टेशनों की सुरक्षा व्यवस्था को बढ़ा दिया गया है। पश्चिमी उप्र और उत्तराखंड के प्रमुख रेलवे स्टेशनों पर अतिरिक्त सुरक्षा बरती जा रही है। आरपीएफ और जीआरपी के जवान स्टेशन पर बराबर गश्त कर रहे हैं और हर आने—जाने वाली यात्री ट्रेनों को चेक कर रहे हैं।

सूत्रों के मुताबिक पाकिस्तानी आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद के नाम से हरिद्वार रेलवे स्टेशन सहित उत्तराखंड और पश्चिमी उत्तर प्रदेश के कई रेलवे स्टेशनों,धार्मिक स्थलों को बम से उड़ाने की धमकी मिली है। आतंकी संगठन जैश—ए—मोहम्मद के एरिया कमांडर के हवाले से हरिद्वार रेलवे स्टेशन अधीक्षक को धमकी भरा पत्र भेजा गया है। पत्र मिलने के बाद तमाम रेलवे स्टेशन और धार्मिक स्थलों की सुरक्षा बढ़ा दी गई है। वहीं जांच और खुफिया एजेंसियां भी अलर्ट मोड पर आ गई हैं। हरिद्वार से लेकर मेरठ तक के स्टेशनों पर सुरक्षा व्यवस्था चाक चौबंद कर दी गई है।

अधिकारियों के अनुसार गत 10 अक्तूबर को हरिद्वार रेलवे स्टेशन अधीक्षक के नाम से साधारण डाक से एक पत्र आया। स्टेशन अधीक्षक के पत्र खोलते ही उनके होश उड़ गए। पत्र में हरिद्वार रेलवे स्टेशन के साथ देहरादून, रुड़की,लक्सर, नजीबाबाद, काठगोदाम, शाहगंज सहित उप्र के कई स्टेशनों को बम से उड़ाने की धमकी लिखी हुई थी। पत्र भेजने वाले ने खुद को पाकिस्तान समर्थित आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद का एरिया कमांडर बताया हुआ है। एक पन्ने के इस धमकी भरे पत्र में दोनों तरफ हिंदी में ही लिखा हुआ है।

इस पत्र में लिखा है कि आगामी 25 अक्तूबर को स्टेशनों पर बम विस्फोट किया जाएगा। जबकि 27 अक्तूबर को उत्तराखंड के चारधाम के साथ अन्य धार्मिक स्थलों पर बम धमाके करने की चेतावनी दी है। जीआरपी के अपर पुलिस अधीक्षक अरुणा भारती ने बताया कि धमकी भरा पत्र मिलने के बाद गैर कानूनी गतिविधियां रोकथाम अधिनियम (यूएपीए एक्ट) में अज्ञात के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया गया है। उन्होंने बताया कि उत्तराखंड में पहली बार इस तरह का मुकदमा दर्ज किया गया है। इस मामले की गहनता और गंभीरता के साथ जांच की जा रही है।

Exit mobile version