depo 25 bonus 25 to 5x Daftar SBOBET

सावधानी हटी, दुर्घटना घटी

आर्टिकल/इंटरव्यूसावधानी हटी, दुर्घटना घटी

Date:

हरमनप्रीत को ज़िन्दगी भर दर्द देगा ये रन आउट

अमित बिश्‍नोई

सावधानी हटी और दुर्घटना घटी, कहते हैं रेस में आप चाहे जितना आगे चल रहे हों लेकिन जबतक आप विनिंग मार्क क्रॉस नहीं करते, आप खुद का जीता हुआ नहीं मान सकते, हो सकता है आप विनिंग मार्क के पास लड़खड़ा कर गिर जांय और आपके पीछे रहने वाला धावक आपसे आगे निकल जाय. कल दक्षिण अफ्रीका के शहर Cape Town में कुछ ऐसा ही हुआ, जब हम विनिंग मार्क के करीब पहुंचे तो लड़खड़ा कर गिर गए. हरमनप्रीत कौर के रन आउट को लड़खड़ाना ही कहेंगे। आप इसे दुर्घटना भी कह सकते हैं और लापरवाई भी. कौर का रन आउट एक दुर्घटना तो थी लेकिन यह दुर्घटना उनकी लापरवाई से ही हुई.

जिस किसी ने भी उनके रन आउट देखा होगा, आसानी से समझ जायेगा कि यह उनकी लापरवाई है. होता है, गलती सभी लोगों से होती हैं लेकिन कुछ गलतियां ऐसी होती है जो जीवन भर दुःख पहुंचाती है. सभी लोग इस दुर्घटना को कुछ समय बाद शायद भूल जायेंगे लेकिन हरमनप्रीत को अपनी यह गलती ज़िन्दगी भर दर्द देती रहेगी क्योंकि यह विश्व कप का सेमी =फाइनल था और सामने ऑस्ट्रेलिया थी, वो खुद कप्तान थी, चैंपियन का खिताब बस एक कदम दूर था. किसी भी कप्तान के लिए ऐसे मौके ज़िन्दगी में बार बार नहीं आते. देखा जाय तो 2014 से अबतक ICC मुकाबलों में यह भारत की ऐसी 11 वीं हार है जब टीम सेमीफाइनल या फाइनल में हारी है, इनमें से चौथी हार महिला टीम को मिली है.

मैच के बाद हरमनप्रीत के आँखों में आंसू थे, वो अंजुम चोपड़ा से लिपटकर रो भी रही थी, मैच प्रेजेंटेशन के दौरान चश्मा लगाकर अपनी आँखों के आंसुओं को छुपा रही थी और यह सब एक गलती की वजह से हो रहा था. रन आउट होना खेल का हिस्सा है लेकिन इस तरह का रन आउट शायद खेल का हिस्सा नहीं माना जा सकता। एक इतनी सीनियर खिलाड़ी अपने बैट को रनिंग के समय इस तरह ज़मीन पर रख रही है कि उसका फंसना लाज़मी था. जिन्होंने क्रिकेट खेला है वो यह जनता हैं कि बैट फंसने के बाद शरीर का संतुलन भी बिगड़ता और वो ऊपर की तरफ जम्प करता है. वरना नोरमल पोजीशन में तो पैर ही क्रीज़ के अंदर पहुँच गया होता। यहाँ पर ऑस्ट्रेलियन कीपर के बुद्धि तत्परता की भी तारीफ करनी पड़ेगी जिसने देख लिया कि कौर का बैट फंस गया.

बहरहाल कौर अपने किये पर बहुत शर्मिंदा हैं, होना भी चाहिए। लेकिन यह दूसरे खिलाडियों के लिए बहुत बड़ा सबक है. ऑस्ट्रेलिया को भी मालूम है कि यह जीत उसे उसके भाग्य ने दिलाई है, वरना उसका खेल जीत वाला तो नहीं था, यह बात ऑस्ट्रेलिया की कप्तान मेग लैनिंग ने भी मानी। मगर कहते हैं न कि जो जीता वो सिकंदर। ऑस्ट्रेलिया मुकद्दर की सिकंदर निकली। हम चाहे जितना अच्छा खेले लेकिन हार गए. रिकॉर्ड के पन्नों में सिर्फ हार और जीत दर्ज होती है, यह कैसे मिली यह नहीं दर्ज होता। वैसे भी टी 20 क्रिकेट एक ऐसा फॉर्मेट हैं जहाँ एक गेंद मैच का रुख पलट देती है. वरना Wareham की गेंद पर कौर ने एक शानदार स्वीप लगाया था जो शर्तिया चौका था लेकिन एलिस पेरिस ने क्या शानदार फील्डिंग और मैच बदल गया. खैर मेरी संवेदनाएं हरमनप्रीत के साथ हैं, कोई भी खिलाडी विशेषकर कप्तान तो बिलकुल ही नहीं चाहता कि उसकी वजह से टीम को नुक्सान पहुंचे लेकिन नुक्सान तो पहुँच ही चुका है.

Share post:

Subscribe

Popular

More like this
Related

ऑनलाइन गेमिंग सेक्टर को जीएसटी से नहीं मिलेगी राहत

ऑनलाइन गेमिंग कंपनियां सितंबर 2022 से कई पूर्वव्यापी कर...

इजराइल का ईरान के परमाणु ठिकाने वाले शहर पर हमला

अमेरिकी मीडिया ने दावा किया है कि ईरान के...

दिखावे की राजनीती करते हैं मोदी जी, प्रियंका गाँधी

छत्तीसगढ़ के कांकेर लोकसभा क्षेत्र के अंतर्गत बालोद जिले...

CAA को छूने की हिम्मत न ममता में है और न कांग्रेस में: अमित शाह

केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने मंगलवार को CAA...