IND vs AFG: जीत के साथ टीम इंडिया ने ख़त्म किया एशिया कप का सफर

 
IND vs AFG

टीम इंडिया ने दुबई इंटरनेशनल के खाली पड़े स्टेडियम में निराशा में डूबी हुई अफ़ग़ानिस्तान टीम को 111 रनों के विशाल अंतर से हराकर जीत के साथ एशिया कप का अपना सफर ख़त्म किया। कोहली के बल्ले से तीन साल बाद आये शतक और 19वें ओवर के फोबिया से चर्चित भुवनेश्वर कुमार के पंजे की बदौलत भारत को यह बड़ी जीत मिली। 

बिना महत्त्व वाले सुपर 4 के इस मैच में भारत ने पहले बल्लेबाज़ी कि और दो विकेट पर 222 रनों का पहाड़ जैसा स्कोर खड़ा कर दिया। कप्तान रोहित शर्मा की जगह आज विराट कोहली राहुल के साथ पारी की शुरुआत करने उतरे और एशिया कप में भारत की सलामी पहली बार अपने रंग में नज़र आयी. दोनों ही बल्लेबाज़ों ने शुरू से ही आक्रामक रुख अपनाया और अफ़ग़ानिस्तान के लगभग हर गेंदबाज़ की पिटाई की. इन दोनों के बीच 119 रनों की साझेदारी हुई. के एल राहुल 41 गेंदों पर 62 रन बनाकर फरीद अहमद की गेंद पर आउट हुए, सूर्यकुमार ने निराश किया और 6 रन बनाकर चलते बने. इसके बाद पंत और कोहली के बीच 97 नाबाद 97 रनों की साझेदारी हुई जिसमें पंत के सिर्फ 20 रन थे. इसी अंदाज़ा लगाया जा सकता है कि विराट आज कितने गज़ब के मूड में थे. उनके बल्ले से 1021 दिन बाद शतक निकला जो टी-20 में उनका पहला शतक है. कोहली ने नाबाद 61 गेंदों पर नाबाद 122 रनों की तूफानी पारी खेली जिसमें 12 चौके और 6 छक्के शामिल थे. 

अफ़ग़ानिस्तान की गेंदबाज़ी आज बिलकुल साधारण नज़र आयी, ऐसा कभी भी लगा ही नहीं कि ये वही गेंदबाज़ हैं जिन्होंने एक दिन पहले पाकिस्तान को नको चने चबवा दिए दिए थे. शायद उनपर हार की निराशा थी, सबकुछ झोंकने के बाद मिली हार ने शायद उन्हें शारीरिक और मानसिक रूप से तोड़ दिया था. विकेट चटकाने वाले एकमात्र गेंदबाज़ फरीद अहमद रहे.

वहीँ लक्ष्य का पीछा करने जब अफ़ग़ानिस्तान उतरी तो भुवनेश्वर कुमार उनपर कहर बनकर टूटे। विकटों की झड़ी लग गयी, बल्लेबाज़ों का पिच पर आना और जाना लगा रहा. 21 रनों पर अफ़ग़निस्तान के 6 विकेट आउट हो चुके थे, भुवनेश्वर अपने चार ओवरों में पांच विकेट ले चुके थे. मैच सिर्फ औपचारिकता बन चूका था. बाद में इब्राहिम जादरान के नाबाद 61, राशिद के 15 और मुजीब के 18 रनों की बदौलत अफ़ग़ानिस्तान की टीम 8 विकेट खोकर 111 के टोटल तक पहुँच सकी.