CWG कुश्ती: कनाडाई रेसलर को चित कर साक्षी ने जीता गोल्ड

 
साक्षी

भारतीय पहलवान साक्षी मालिक ने बर्मिंघम में खेले जा रहे कॉमनवेल्थ गेम्स 2022 में शुक्रवार को महिलाओं के 62 किलोग्राम भारवर्ग में स्वर्ण पदक अपने नाम कर देश का नाम रौशन किया. साक्षी मालिक ने फाइनल में कनाडा की एना गोंजालेज को पटखनी दी. भारतीय रेसलर का राष्ट्रमंडल खेलों में यह पहला स्वर्ण पदक है. इससे पहले 2014 में ग्लास्गो में खेले गए राष्ट्रमंडल खेलों में साक्षी ने सिल्वर मेडल जीता था जबकि 2018 में गोल्ड कोस्ट में हुए राष्ट्रमंडल खेलों में साक्षी ब्रॉन्ज़ मैडल ही जीत पाने में कामयाब हो पायी थी. इसबार भी हालाँकि साक्षी की शुरुआत अच्छी नहीं हुई थी मगर उन्होंने हिम्मत नहीं हारी और मुकाबले में ज़ोरदार वापसी कर गोल्ड मेडल तक अपनी पहुँच बना ही ली.

साक्षी मालिक का फाइनल में मुकाबला कनाडा की गोंज़ालेज़ से था जिन्होंने भारतीय रेसलर की ढीली शुरुआत का फायदा उठाते हुए दो महत्वपूर्ण अंक हासिल किये। साक्षी कुछ देर बाद ही फिर कनाडाई रेसलर के दांव में फिर फंस गई और दोबारा टेकडाउन से दो अंक गंवा बैठीं. इस तरह साक्षी मालिक पहला राउंड 0-4 से गँवा बैठी। लेकिन दूसरे राउंड में साक्षी मालिक ने वापसी की और गोंज़ालेज़ को टेकडाउन कर दो अंक हासिल किये और फिर पिन कर स्वर्ण पदक पर कब्ज़ा किया.

Read also: Rupal Chaudhary Meerut: मेरठ की बेटी रूपल चौधरी का एक और कमाल,रजत के बाद जीता कास्य

पहले दौर में साक्षी ने जिस तरह निराशाजनक शुरुआत की थी उसे देखकर लग नहीं रहा था कि वह गोल्ड हासिल कर पाएंगी लेकिन कुछ ही देर बार बाज़ी पलट चुकी थी और कनाडाई रेसलर को साक्षी मालिक चित कर चुकी थीं. कुछ इसी तरह का खेल साक्षी मालिक ने रियो ओलिंपिक-2016 में दिखाया था जब आखिरी समय मे पांच अंकों का दांव लगाते हुए कांस्य पदक हासिल किया था. साक्षी मलिक के इन खेलों में सफर की की बात करें तो अंतिम चार मुकाबले में कैमरून की बर्थे इमिलिएने इटाने एनगोले पर तकनीकी आधार पर 10-0 से हराकर फाइनल के लिए क्वालीफाई किया था. क्वार्टरफाइनल में भी साक्षी तकनीकी आधार पर जीत हासिल हुई थी.