Virat Kohli: शांत कोहली का आखिर छलक पड़ा दर्द

 
Virat Kohli

भारत के विश्वप्रसिद्ध क्रिकेटर कोहली की आवाज़ और अंदाज़ बहुत विराट होता जा रहा है, एक गुस्सैल अग्रेसिव खिलाड़ी अब बड़ा शांत नज़र आता है, क्रिकेट और जीवन का आनंद लेता हुआ मगर दिल के कहीं कोने दबी हुई तीस किसी सवाल पर उबर ही जाती है. कल मैच के बाद ऐसी ही एक तीस विराट की ज़बान पर शब्दों के रूप में उबर आयी. पत्रकारों के सामने अपने दिल के दर्द को बयान ही कर दिया और बहुत से लोगों उन लोगों पर सवाल भी उठा गया जो हर समय कोहली कोहली जपते थे. कोहली ने पत्रकार के एक सवाल के जवाब में कहा कि जब उन्होंने टेस्ट कप्तानी छोड़ने का एलान किया तो उनके पास सिर्फ एक बन्दे का फोन आया, वो थे एमएसडी। किसी और ने मेसेज तक नहीं किया। 

विराट ने अपने दर्द को बयान करते हुए कहा कि सभी के पास मेरा फ़ोन नंबर था. धोनी का ज़िक्र करते हुए विराट ने कहा कि न उन्हें मुझसे कुछ चाहिए और न ही मुझे उनसे कुछ चाहिए, दरअसल जब किसी के साथ कोई रिश्ता होता है तो वो सच्च होता है और दिखता भी है. कोहली ने कहा कि सुझाव देना अच्छी बात है मगर वो सुझाव पब्लिकली अगर दिए जाते हैं तो फिर सुझाव नहीं होते।

कोहली का इशारा कुछ पूर्व खिलाडियों की ओर था. कोहली ने कहा आपको मुझमें कोई कमी नज़र आती है तो व्यक्तिगत रूप से मुझसे बात कर सकते हैं, मुझे सुझाव दे सकते हैं लेकिन अगर आप टीवी पर, मीडिया में जाकर ऐसी कोई बात करते हैं तो फिर मेरे लिए तो वो निरर्थक हुआ. कोहली ने कहा कि अपना जीवन ईमानदारी से और बिंदास रूप में जीता हूँ, आगे भी मैं ऐसे ही रहूंगा और ऐसे ही खेलूंगा भी. कोहली ने कहा कि ऐसा नहीं कि ऐसी बातों का मुझ पर या मेरे जीवन पर फर्क नहीं पड़ता, आखिर इंसान मैं भी हूँ. मैं अपनी तरफ से पूरा ज़ोर लगाता हूँ, पूरी मेहनत करता हूँ, नतीजा तो ऊपर वाला ही देता है, वो आपके हाथ में नहीं.