मुफ्त की रेवड़ियों के मुद्दे पर Varun Gandhi ने फिर अपनी ही सरकार को घेरा

 
Varun Gandhi

मुफ्त की रेवड़ियों का मुद्दा अब लगातार चर्चा में बना हुआ है, भाजपा को अक्सर अपने बयानों और सवालों से घेरने वाले पीलीभीत के सांसद वरुण गाँधी ने अब इस मुद्दे पर अपनी इंट्री मारी है. वरुण गाँधी ने अपनी ही सरकार से सवाल किया है कि सरकारी ख़ज़ाने पर पहला हक़ किसका है. वरुण गाँधी ने अपनी ही सरकार की मुफ्त रेवड़ियों की एक लम्बी लिस्ट गिना डाली, बता दें प्रधानमंत्री मोदी और भाजपा इन दिनों मुफ्त रेवड़ी कल्चर की ज़ोरदार मुखालिफत करते नज़र आ रहे हैं.  

मुफ्त रेवड़ी कल्चर का मुद्दा उठाते हुए भाजपा सांसद वरुण गांधी ने आज अपने ट्वीट में सवाल किया सरकार बताये कि सरकारी खजाने पर आखिर पहला अधिकार किसका है?'. इसके साथ ही वरुण गाँधी आगे लिखा कि  ‘मुफ्त की रेवड़ी' लेने वालों में मेहुल चोकसी और ऋषि अग्रवाल का नाम टॉप पर है. वरुण गांधी ने कटाक्ष करते हुए लिखा कि जो सदन गरीबों को 5 किलो राशन देने पर उससे ‘धन्यवाद' की आकांक्षा रखता है वही सदन जानकारी देता है कि पिछले 5 वर्षों में भ्रष्ट धनपशुओं का 10 लाख करोड़ तक का क़र्ज़ सरकार ने माफ़ कर दिया.  

Read also: Gangotri Gangajal: देश विदेश तक गंगोत्री का गंगाजल पहुंचाने के लिए कॉपरेटिव ने बनाया ये प्लान

बता दें कि पीएम मोदी ने यूपी में एक जनसभा में रेवड़ी कल्चर का मुद्दा उछाला था, उन्होंने मुफ्त में सुविधाएं उपलब्ध कराने वाली राजनीति की तीखी आलोचना की थी और कहा था कि यह कल्चर देश के विकास के लिए ''बहुत खतरनाक'' है. भाजपा सांसद के ‘मुफ्त की रेवड़ी' वाले ट्वीट को पीएम मोदी के उसी बयान से जोड़कर देखा जा रहा है. बता दें कि रेवड़ी कल्चर का मुद्दा इन दिनों गुजरात में चर्चा का विषय बना हुआ है. आम आदमी पार्टी के संयोजक गुजरात के लगातार दौरे कर रहे हैं और मुफ्त योजनाओं की घोषणाओं पर घोषणाएं कर रहे हैं. केजरीवाल की इन घोषणाओं से भाजपा में काफी बेचैनी है. भाजपा नेता अब लगातार विभिन्न मंचों से रेवड़ी कल्चर को अनैतिक बता रहे हैं, यह मुद्दा इतना गरमा गया है कि मामला अदालत तक पहुँच गया है.