Maharashtra Politics: शिंदे को शिवसेना के चुनाव चिन्ह की नहीं ज़रुरत

 
Maharashtra Politics

असली और नकली शिवसेना की लड़ाई के बीच शिवसेना को तोड़कर महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री की कुर्सी तक पहुँचने वाले एकनाथ शिंदे ने कहा कि चुनाव जीतने के लिए उन्हें किसी विशेष चुनाव चिन्ह की ज़रुरत नहीं है. इसके साथ ही उन्होंने उन्होंने भाजपा के साथ सरकार बनाने को एकबार फिर प्राकृतिक गठबंधन बताया।  

एकनाथ शिंदे ने कहा कि हमने अपने क्षेत्र में इतना काम किया है कि लोग मुझे काम से जानते हैं न कि चुनाव चिन्ह से, इसलिए मुझे चुनाव जीतने के लिए किसी चुनाव निशाँ की आवश्यकतानहीं। पुणे में आयोजित एक रैली में बोलते हुए महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे ने कहा कि सरकार बनते ही हम सभी काम पर उतर गए. शिंदे ने कहा कि लोग मुझसे मिलने आते थे क्योंकि उद्धव ठाकरे के पास मिलने का समय ही नहीं था. शिंदे ने सवाल किया कि बालासाहेब के साथ काम करने वाले वरिष्ठ नेताओं को भी वर्षा बंगले से बिना मिले वापस लौटना पड़ा. उद्धव के इस रवैये से हमारे लोगों को भुगतना पड़ा क्योंकि सरकार में जो हो रहा था वह बर्दाश्त के बाहर था.

Read also: Moradabad SDM: फर्नीचर कारोबारी के मकान पर बुलडोजर चलाने वाले एसडीएम पर गिरी गाज,शासन ने किया सस्पेंड

एकनाथ शिंदे ने कहा कि हमने MVA सरकार से हटने का फैसला इसलिए लिया क्योंकि भविष्य के चुनावों में शिवसेना के पास नाम मात्र ही विधायक बचते. हमने शिवसेना को बचाने के लिए यह कदम उठाया। बता दें कि शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे के नेतृत्व में कांग्रेस और एनसीपी गठबंधन की महाविकास अघाड़ी सरकार को भाजपा की मदद से शिंदे और उनके समर्थक बाग़ी विधायकों ने जून में गिरा दिया था. तबसे ही ठाकरे गुट शिवसेना की द्वारा शिंदे और और उनके समर्थक विधायकों ‘‘गद्दार'' और विश्वासघाती कहा जा रहा है.