विपक्ष ने एकजुट होकर छेड़ी भाजपा के खिलाफ मुहिम, "यूपी + बिहार गई मोदी सरकार"

 
विपक्ष ने एकजुट होकर छेड़ी भाजपा के खिलाफ मुहिम, "यूपी + बिहार गई मोदी सरकार"

लखनऊ। राजधानी स्थित समाजवादी पार्टी प्रदेश कार्यालय के बाहर बिहार मुख्यमंत्री नीतीश कुमार और सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव के पोस्टर लगाए जा चुके हैं। जिसके माध्यम से संदेश दिया जा रहा है कि यूपी और बिहार एकजुट होकर बीजेपी के लोकसभा सदस्यों की संख्या कम कर दें तो केंद्र से मोदी सरकार का सफाया हो जाएग।  ऐसे पोस्टर सपाइयों ने कार्यालय के बाहर लगाए हैं। सपा नेता आई पी सिंह का कहना है कि पूरे प्रदेश में इस तरह का अभियान चलाया जाएगा। जिसमें भाजपा सरकार को सत्ता से उखाड़ फेंकने के लिए मुहिम चलाई जाएगी। 

बिहार में जदयू द्वारा भाजपा का साथ छोड़कर राष्ट्रीय जनता दल के साथ आने के बाद विपक्ष का अब आत्मविश्वास और अधिक बढ़ गया है। बताया जाता है कि इससे भाजपा के लिए मिशन 2024 चुनौतीपूर्ण हो गया है। इसलिए अब विपक्ष पूरे जोश के साथ भाजपा की सरकार को उखाड़ने के लिए मजबूती के साथ अपनी मुहिम में जुट गया है।  बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने हाल में देश भर के कई बड़े नेताओं से मुलाकात की और विपक्ष को एकजुट किए जाने का संदेश भी दिया। उप्र के विधानसभा चुनाव में सपा गठबंधन ने 125 सीटों पर जीत दर्ज की थी। अब उम्मीद की जा रही है कि सपा प्रदेश  में भाजपा को कड़ी टक्कर देने की तैयारी में है।

यूपी और बिहार में लोकसभा की कुल मिलाकर 120 सीटें हैं। जिन पर 2019 के चुनाव में भाजपा को 100 से अधिक सीटें हासिल हुईं थी। विपक्ष इन प्रदेशों में भाजपा की सीटें कम कर केंद्र की सत्ता से उसे बेदखल करने की फुलप्रूफ योजना बना रहा है। 
बिहार में भाजपा ने जदयू के साथ मिलकर चुनाव लड़ा। जहां पर 40 में से 39 सीटों पर जीत हासिल हुई थी। अब जदयू के भाजपा से अलग होने पर भाजपा को बिहार में बड़ी संख्या में सीटों का नुकसान होना तय मान रहे है। महाराष्ट्र में शिवसेना भाजपा से अलग हो चुकी है। ऐसे में 2024 में भाजपा के लिए राह काफी कठिन मानी जा रही है।