Vice President Polls 2022: जानिए कैसी है उपराष्ट्रपति पद की चुनाव प्रक्रिया, किसको है वोट डालने का अधिकार

 
Vice President Polls 2022

नई दिल्ली। संविधान के अनुच्छेद 66 के तहत उपराष्ट्रपति चुनाव की प्रक्रिया का जिक्र है। उपराष्ट्रपति पद के लिए चुनाव अनुपातिक प्रतिनिधि पद्धति से होता है। इसमें वोटिंग सिंगल ट्रांसफरेबल वोट सिस्टम से की जाती है। आसान शब्दों में इस चुनाव के मतदाता को वरीयता के आधार पर वोट करना होता है। मसलन मतदाता बैलट पेपर पर मौजूद उम्मीदवारों में अपनी पहली पसंद के उम्मीदवार को एक और दूसरी पसंद को दो और इसी तरह से अन्य प्रत्याशियों के आगे अपनी प्राथमिकता नंबर के तौर पर लिख देता है। ये पूरी प्रक्रिया गुप्त मतदान पद्धति के तहत ही होती है। चुनाव में मतदाता को अपनी वरीयता सिर्फ रोमन अंक के रूप में लिखने की अनुमति होती है। इसे लिखने के लिए चुनाव आयोग द्वारा एक खास तरह का पेन उपलब्ध कराया जाता है। इस खास पेन का उपयोग करके ही मतदाता चुनाव में वोट का उपयोग करता है। 

Read also: अमेरिकी राष्ट्रपति निवास White House के पास गिरी आकाशीय बिजली, तीन की दर्दनाक मौत

उपराष्ट्रपति चुनाव में लोकसभा के 543 सांसद, राज्यसभा के 233 निर्वाचित सांसद के अलावा राज्यसभा के लिए मनोनीत किए गए 12 सांसद भी अपने मत का उपयोग कर सकते हैं। इस तरह के उपराष्ट्रपति के मतदान में 788 लोग अपने मताधिकार का उपयोग करते हैं। जम्मू कश्मीर विधानसभा भंग होने के कारण इस समय राज्यसभा में जम्मू कश्मीर के कोटे की चार सीटें खाली हैं। वहीं त्रिपुरा के मुख्यमंत्री के इस्तीफे के चलते वहां से भी एक सीट खाली हो गई है। इस तरह राज्यसभा में इस समय निर्वाचित सदस्यों की वर्तमान संख्या 228 है। वहीं, मनोनीत सांसदों की तीन सीटें रिक्त हैं। इस तरह से इलेक्टोरल कॉलेज में कुल सदस्य संख्या फिलहाल 780 है। यानी 780 मतों से उपराष्ट्रपति के उम्मीदवारों के भाग्य का फैसला होगा।