Sunday, October 24, 2021
Homeपॉलिटिक्सबदले कांग्रेस प्रत्याशी के सुर, बच्चों को सेना में भेजने वाले माता-पिता...

बदले कांग्रेस प्रत्याशी के सुर, बच्चों को सेना में भेजने वाले माता-पिता को बताया महान

  • कारगिल को बड़ी लड़ाई न बताने पर प्रतिभा सिंह से नाराज थे सैन्य परिवार

मंडी। कुछ दिन पहले तक कारिगल युद्ध को कोई बड़ा युद्ध न बताने वाली मंडी लोकसभा उपचुनावों में कांग्रेस प्रत्याशी प्रतिभा सिंह ने अब सेना के गुणगान करना शुरू कर दिया है। अपने बच्चों को सेना में भेजने वाले माता-पिता को महान बताने वाली प्रतिभा सिंह ने हिमाचल प्रदेश के अनेक स्थानों के निवासी रणबांकुरों ने देश की रक्षा करते हुए अपने प्राणों का बलिदान दिया है जिसे कभी भुलाया नहीं जा सकता।

Read also: बिहार उपचुनाव में कांग्रेस के स्टार प्रचारकों की सूची में यादव से परहेज, उठने लगे सवाल

गौरतलब है कि मंडी संसदीय सीट से भाजपा ने ब्रिगेडियर खुशाल ठाकुर को टिकट दिया है। खुशाल ठाकुर ने कारगिल युद्ध के दौरान 18 ग्रेनेडियर का नेतृत्व किया था। 18 ग्रेनेडियर ने तोलोलिंग की पहाड़ी पर कब्जा कर कारगिल युद्ध को जीतने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी। कारगिल युद्ध को जीतने के लिये देश के 527 सैन्यकर्मियों ने शहादत दी थी। उनके सामने खड़ी कांग्रेस प्रत्याशी प्रतिभा सिंह ने एक चुनावी सभा में कहा कि भाजपा अपने प्रत्याशी ब्रिगेडियर खुशाल ठाकुर को बहुत बड़े और विजय हासिल करने वाले सैनिक के रूप में पेश कर रही है। उन्होंने कारगिल युद्ध में भाग लिया है लेकिन वो कोई बड़ा युद्ध नहीं था। कारगिल युद्ध कोई बड़ी लड़ाई नहीं थी, सिर्फ अपनी धरती से पाकिस्तान को खदेड़ना ही तो था।

Read also: बिहार: लालू, तेजस्वी से मुकाबला करेंगे कांग्रेस के कन्हैया, हार्दिक

हिमाचल प्रदेश के मंडी संसदीय सीट पर हो रहे उपचुनाव में भाजपा प्रत्याशी को कमतर बताने के प्रयास में कांग्रेस प्रत्याशी की जुबान फिसली और वह कारगिल युद्ध को ही छोटी सी बात बता गयीं। लेकिन अब शायद उन्हें अहसास हो गया है कि यह बात कह कर उन्होंने सैन्य मतदाताओं की नाराजगी मोल ले ली है और उनको वोटों के बिना उनका जीतना असंभव है। ऐसे में अब मंडी जिला के सरकाघाट में चुनावी सभा को संबोधित करते हुए कांग्रेस प्रत्याशी प्रतिभा सिंह ने कहा कि देश की रक्षा करने के लिए अपने बच्चों को सरहदों पर भेजने वाले महान हैं वह माता-पिता जिनके बच्चे अपने प्राणों की परवाह किए बिना भारत माता की रक्षा हेतु शहीद हो जाते हैं। ऐसे शहीदों और उनके महान माता-पिता का ऋण देश और प्रदेशवासी जन्म जन्मांतर तक नहीं चुका सकते।

RELATED ARTICLES
- Advertisment -

लेटेस्ट न्यूज़

ट्रेंडिंग न्यूज़