आंसू बहाने से पहले मोदी को क्रूर समझते थे आज़ाद

 
Ghulam Nabi Azad:

कांग्रेस से आज़ाद किये गए या फिर खुद आज़ाद हुए गुलाम नबी आज़ाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को लेकर बड़ी ग़लतफ़हमी थे. दरअसल राज्यसभा से उनकी विदाई पर प्रधानमंत्री की आँखों से आंसू बहने और उन्हें सैल्यूट करने से पहले गुलाम नबी आज़ाद उन्हें बड़ा क्रूर समझते थे लेकिन उन आंसुओं ने आज़ाद के दिल में बानी हुई प्रधानमंत्री मोदी की छवि को बिलकुल बदल दिया और वो उन्हें इंसान समझने लगे. यह बात ग़ुलाम नबी आज़ाद ने एक टीवी चैनल से हुए एक इंटरव्यू में की. 

दरअसल कांग्रेस के पूर्व नेता ग़ुलाम नबी आज़ाद कांग्रेस छोड़ने के अपने फैसले को सही साबित करने की मुहीम में जुटे हुए हैं और साथ ही उन लोगों के खिलाफ हमले में भी जुटे हुए जिन्हें वह राहुल गाँधी का चाटुकार कहते हैं और जिनके कारण उन्हें कांग्रेस पार्टी छोड़ना पड़ी क्योंकि इनके कारण आज़ाद को कांग्रेस पार्टी में वो भाव नहीं नहीं मिल रहा था जो कभी संजय गाँधी के ज़माने में था, हालाँकि तब उनका शुमार भी चाटुकारों में होता था. चैनल से अपनी बातचीत में आज़ाद ने कांग्रेस पार्टी के लिए किये अपने बलिदानों को याद दिलाया, उन्होंने याद दिलाया कि उनपर दो दर्जन से ज़्यादा बार हमले हुए. 

Read also: Rupee Vs Dollar: सोमवार के शुरूआती कारोबारी सत्र में निचले स्तर पर फिसला रूपया,डालर हुआ मजबूत

बातचीत में उनके निशाने पर कांग्रेस नेता जयराम रमेश विशेषरूप से नज़र आये क्योंकी जयराम रमेश ने उनकी दुखती रग पर हाथ रखते हुए कहा दिया था कि GNA का डीएनए अब मोदीफाइड हो गया है. आज़ाद को जयराम की यह बात बहुत बुरी लगी है तभी तो उन्होंने उनपर हमला करते हुए कहा कि दरअसल डीएनए तो जयराम का पता लगाना चाहिए कि कहाँ से आये हैं, उनका DNA किसी किस पार्टी से मैच करता है. आज़ाद इन इस बातचीत में एकबार फिर इस बात को स्पष्ट किया कि भाजपा क्या वह किसी भी दूसरे राजनीतिक दल में शामिल नहीं होंगे, उनका अब किराये की ईमारत में रहने का कोई इरादा नहीं. वह अपना घर अब खुद बनाएंगे। बता दें कि आज़ाद ने जम्मू कश्मीर में अपनी नयी पार्टी बनाने का एलान किया है.