कांग्रेस पर संकट: पूर्व उपमुख्यमंत्री सहित 64 नेताओं ने कांग्रेस से दिया इस्तीफा

 
कांग्रेस पर संकट

जम्मू। जम्मू-कश्मीर कांग्रेस को आज मंगलवार को एक बार और जोरदार झटका लगा है। एक तरफ जहां पार्टी गुलाम नबी आजाद के जाने के बाद डैमेज कंट्रोल के प्रयास में जुटी हुई थी। वहीं दूसरी ओर पार्टी से नेताओं का इस्तीफा देने का सिलसिला तेजी से जारी है। आज मंगलवार को पूर्व उपमुख्यमंत्री तारा चंद, पूर्व मंत्री अब्दुल मजीद वानी सहित 64 नेताओं ने कांग्रेस का साथ छोड़ दिया। सभी नेताओं ने अपना इस्तीफा हाईकमान को भेज दिया है। आज मंगलवार को पूर्व उपमुख्यमंत्री तारा चंद, पूर्व विधायक बलवान सिंह,पूर्व मंत्री अब्दुल मजीद वानी, प्रदेश कांग्रेस महासचिव विनोद मिश्रा, पूर्व मंत्री डॉ0 मनोहर लाल शर्मा, नरिंद्र शर्मा, विनोद शर्मा सहित 64 नेताओं ने कांग्रेस पार्टी से इस्तीफा दे दिया। इन सभी नेताओं ने जम्मू में एक प्रेसवार्ता कर कांग्रेस पार्टी का दामन छोड़ गुलाम नबी आजाद को समर्थन देने का एलान किया। इस दौरान बलवान सिंह ने कहा कि हमने गुलाम नबी आजाद के समर्थन में कांग्रेस की कार्यकारी अध्यक्ष सोनिया गांधी को एक संयुक्त इस्तीफा भेजा है।

Read also: Economist Abhijit Sen Passes Away: प्रसिद्ध अर्थशास्त्री और योजना आयोग के पूर्व सदस्य अभिजीत सेन का दिल का दौरा पड़ने से निधन

उधर मंगलवार को कांग्रेस जम्मू में शक्ति प्रदर्शन की तैयारी चल रही है। नवनियुक्त प्रदेशाध्यक्ष विकार रसूल के साथ एआईसीसी जम्मू-कश्मीर व लद्दाख मामलों की प्रभारी रजनी पाटिल आज मंगलवार को जम्मू पहुंची। दोनों नेताओं का जम्मू एयरपोर्ट से पार्टी मुख्यालय तक रैली निकालकर जोरदार स्वागत किया गया। यह रैली निकालकर कांग्र्रेस ने पार्टी के डैमेज कंट्रोल को पूरा करने की कोशिश की है। इससे पहले सोमवार को पूर्व डिप्टी स्पीकर गुलाम हैदर मलिक सहित कांग्रेस के तीन वरिष्ठ नेताओं ने दिग्गज नेता गुलाम नबी आजाद के समर्थन में पार्टी से इस्तीफे की घोषणा की थी। वहीं कठुआ बनी विधानसभा क्षेत्र के पूर्व विधायक हैदर मलिक, कठुआ से पूर्व एमएलसी सुभाष गुप्ता और डोडा से पूर्व एमएलसी श्याम लाल भगत ने कांग्रेस आलाकमान को अपने इस्तीफे भेज दिया था। आजाद के करीबी सहयोगी और पूर्व मंत्री जीएम सरूरी ने इस बारे में कहा था कि उन्हें मलिक, गुप्ता और भगत के समर्थन के लिए पत्र मिल चुके हैं।