Sunday, September 26, 2021
Homeन्यूज़उत्तर प्रदेश भाजपा बड़ी भ्रष्टाचारी पार्टी है जिसने अपने वादे भी भुला दिए:अखिलेश यादव

भाजपा बड़ी भ्रष्टाचारी पार्टी है जिसने अपने वादे भी भुला दिए:अखिलेश यादव

लखनऊसमाजवादी पार्टी अध्यक्ष अखिलेश यादव ने कहा है कि भाजपा अपनी साख खो चुकी है। वह झूठ का प्रशिक्षण केन्द्र बन गई है। जनता से वादे करके भूल जाना भाजपा का चरित्र हो गया है। यह जनता को धोखा देना है। डाॅ. राममनोहर लोहिया मानते थे कि वादाखिलाफी भ्रष्टाचार की श्रेणी में आता है। इस हिसाब से भाजपा बड़ी भ्रष्टाचारी पार्टी है जिसने अपने संकल्प पत्र में किए गए वादे भी भुला दिए हैं।


आखिर भाजपा अपने संकल्प पत्र को क्यों नहीं पूरा किया है? किसानों-नौजवानों के लिए जो वादे किए गए क्यों भुला दिए गए? किसान की न तो कर्जमाफी हुई, न उसे फसल का न्यूनतम समर्थन मूल्य मिला और नहीं किसान की आय दुगनी हुई? गन्ना किसान आज भी अपने बकाया के लिए परेशान घूम रहा है। 10 हजार करोड़ रूपए से ज्यादा उसका बकाया हैं मिल मालिकों को ही भाजपा सरकार में राहत मिल रही है। गन्ना किसान को तो लागत मूल्य भी नहीं दिया जा रहा है। गन्ना बकाया का ब्याज क्यों नहीं दिया जा रहा है?

कश्मीर मुद्दे पर पाकिस्तान और इस्लामिक सहयोग संगठन को भारत ने दिखाया आईना


नौजवान परेशान है उनसे 70 लाख नौकरियों का वादा किया गया वह सिर्फ वादा ही रहा है। प्रदेश में न नौकरियां हैं न नए उद्योग आ रहे हैं कि रोजगार पैदा हो। बल्कि जो उद्योग लगे हैं, वे भी बंद होने के कगार पर है। नौकरियां मांगने पर युवाओं पर लाठी पड़ती है। नोटबंदी-जीएसटी से व्यापार चौपट है। व्यापारी कर्ज में दब गए गए हैं। बुनकरों का धंधा चौपट है। भाजपा सरकार ने खुद तो एक यूनिट बिजली का उत्पादन किया नहीं, उपभोक्ताओं के लिए उसे मंहगी कर दिया। जन सामान्य पर पेट्रोल-डीजल के अलावा ईंधन गैस का भी बोझ लाद दिया है।

कश्मीर के लोगों के हाथों ही कश्मीरियों की हत्या कराने के पाकिस्तानी एजेंडे के खिलाफ बढ़ रहा आक्रोश


भाजपा सरकार विकास का झूठा भ्रमजाल फैला रही है। उसने शौचालय बनाएं जिनमें पानी की व्यवस्था नहीं है। उज्ज्वला योजना का लाभार्थी गरीब मंहगी ईंधन गैस कहां से खरीदेगा? सार्वजनिक वितरण प्रणाली ध्वस्त है। स्वास्थ्य सेवाएं बदहाल है। कोरोना महामारी के संकट के बाद अब डेंगू-मलेरिया के मरीजों की जिंदगी से खिलवाड़ हो रहा है। बच्चे अकाल मृत्यु के शिकार हो रहे हैं।
जिस भाजपा ने अपने संकल्प-पत्र को कूड़े दान में फेंक दिया, जनता उसे फिर क्यों समर्थन देना चाहिए? समाजवादी सरकार का काम पहले भी बोल रहा था, काम आगे भी बोलेगा।

बीजेपी-सपा की एक-दूसरे के चुनाव चिन्ह पर जुबानी जंग

RELATED ARTICLES
- Advertisment -

लेटेस्ट न्यूज़

ट्रेंडिंग न्यूज़