UP BJP Politics: यूपी में भाजपा का अगला अध्यक्ष कौन?

 
UP BJP Politics:

उत्तर प्रदेश भाजपा के अध्यक्ष पद से स्वतंत्र देव सिंह ने इस्तीफ़ा दे दिया है, तो सवाल यह उठता है कि यूपी बीजेपी का अगला अध्यक्ष कौन होगा? ध्यान रहे कि 2024 में लोकसभा का चुनाव होना है और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की लगातार तीसरी जीत के लिए भाजपा कोई कोर कसर नहीं छोड़ेगी, लोकसभा चुनावों में किसी भी पार्टी के लिए उत्तर प्रदेश सबसे महत्वपूर्ण रहता है तो सभी के मन में यही सवाल है कि क्या भाजपा लोकसभा चुनावों को देखते हुए एकबार फिर किसी ब्राह्मण को प्रदेश में पार्टी की बागडोर सौंपेगी, लोकसभा चुनाव की बात करें तो भाजपा का इतिहास तो यही कहता है कि पिछले चार आम चुनावों के दौरान प्रदेश में पार्टी की कमान किसी ब्राह्मण ने ही संभाली है.

बता दें कि 2004 के लोकसभा चुनाव में प्रदेश भाजपा की कमान केशरीनाथ त्रिपाठी संभाले हुए थे, 2009 चुनाव में यह ज़िम्मेदारी रमापति राम त्रिपाठी को मिली हुई थी, 2014 के आम चुनाव में लक्ष्मीकांत वाजपेयी कमान संभाले हुए थे और केंद्र में नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में भाजपा की सरकार बनी थी और 2019 के लोकसभा चुनाव में महेंद्र नाथ पांडेय प्रदेश अध्यक्ष थे और भाजपा ने एकबार फिर केंद्र में अपनी सरकार बनाई और नरेंद्र मोदी लगातार दूसरी बार पीएम बने. शायद यही वजह है कि सियासी गलियारों में इस बात की चर्चा ज़्यादा है कि आगामी लोकसभा चुनावों को देखते हुए एकबार फिर किसी ब्राह्मण को यह ज़िम्मेदारी मिले. 

Read also: Allahabad High Court: ऐसे तो गंगा कभी साफ़ नहीं हो सकती, नमामि गंगा प्रोजेक्ट पर हाई कोर्ट की सख्त टिप्पणी

अब अगर इस बात को मान लिया जाय कि उत्तर प्रदेश भाजपा का नया प्रदेश अध्यक्ष कोई ब्राह्मण ही होगा तो सवाल उठता है कि कौन? ऐसे में फिलहाल जो नाम चर्चा में हैं उसमें सबसे आगे योगी-1 में उप मुख्यमंत्री रहे डॉ. दिनेश शर्मा का नाम है. अन्य नामों में प्रदेश उपाध्यक्ष विजय बहादुर पाठक, पूर्व ऊर्जा मंत्री श्रीकांत शर्मा, अलीगढ़ के सांसद सतीश गौतम, प्रदेश महामंत्री और कन्नौज के सांसद सुब्रत पाठक, सांसद डॉ. महेश शर्मा प्रमुख दावेदारों में गिने जा रहे हैं.