Om Prakash Rajbhar: सुभासपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष को मिली वाईश्रेणी सुरक्षा तो सियासी गलियारों में मची हलचल

 
Om Prakash Rajbhar

लखनऊ। जहूराबाद विधानसभा से विधायक और सुभासपा राष्ट्रीय अध्यक्ष ओमप्रकाश राजभर को वाई श्रेणी की सुरक्षा मिली है। राजभर को ये सुरक्षा शासन के निर्देश पर उपलब्ध कराई गई है। इस घटनाक्रम से सियासी गलियारे में अटकलों का बाजार गर्म है। लोगों में चर्चा है कि सरकार द्वारा राजभर का ख्याल करना आने वाले लोकसभा चुनाव को लेकर नया संकेत की निशानी है। 2022 के विधानसभा चुनाव में सुभासपा ने सपा से गठबंधन किया था। इस दौरान सुभासपा अध्यक्ष ओमप्रकाश राजभर ने भाजपा की केंद्र और प्रदेश सरकार के खिलाफ जमकर हमला बोला था। वहीं चुनाव में जहूूराबाद सीट से भारी अंतर से जीत दर्जकर विरोधियों को पटखनी भी दी थी। राजभर समाज के सफल नेतृत्वकर्ता के रूप में खुद को साबित करते रहे हैं। लेकिन उसके बाद लोकसभा उपचुनाव में आजमगढ़ और रामपुर सीट पर सपा को मिली करारी हार के बाद से राजभर सपा के खिलाफ हमलावर हैं। राजभर सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव को नसीहत देते रहे हैं। राष्ट्रपति चुनाव में विपक्ष प्रत्याशी को समर्थन देकर एनडीए प्रत्याशी द्रौपदी मुर्मू के पक्ष में खड़े रहे। शासन के निर्देश पर गाजीपुर पुलिस ने उन्हें वाई श्रेणी की सुरक्षा प्रदान कर दी है।

Read also: Minister Nand Gopal Nandi: अब मंत्री नंदी ने विभागीय तबादलों पर अधिकारियों की मनमानी का मामला उठाया

अब सियासी हलकों में चर्चा है कि सुरक्षा देने का मतलब राजभर की भाजपा से धीरे-धीरे नजदीकी बढ़ती जा रही है। यह आने वाले लोकसभा चुनाव में नया गुल खिलाने की ओर इशारा है। इस बारे में गाजीपुर पुलिस अधीक्षक रोहन पी बोत्रे कहना है कि शासन के निर्देश पर तीन दिन पूर्व जहूराबाद से  विधायक ओमप्रकाश राजभर को वाई श्रेणी की सुरक्षा प्रदान उपलब्ध कराई है। सुभासपा राष्ट्रीय अध्यक्ष ओम प्रकाश राजभर अब खुलकर सपा पर प्रहार कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि रामपुर और आजमगढ़ लोकसभा सीट पर उपचुनाव हारने के पीछे मुस्लिम वोटों का सपा से कटना है। आजमगढ़ में गुड्डु जमाली को सपा ने धोखा दिया। सपा में पहले भाई उसके बाद जो भाजपा को हराई तब सपाई की पूछ। इस रवैये से आजमगढ़ के मुस्लिम काफी खफा हैं।