Lucknow Latest News: स्वास्थ्य विभाग में चिकित्सकों के तबादलों में अधिकारियों ने किया खेल,सीएम योगी हुए नाराज

 
Yogi

लखनऊ। प्रदेश स्वास्थ्य विभाग में चिकित्सक तथा अन्य कर्मियों के तबादलों में अधिकारियों ने खेल कर दिया। इस खेल के चलते अब महकमे में बवाल मच गया है। जिसके बाद मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ नाराज हो गए हैं। बवाल को रोकने के लिए सीएम योगी आदित्यनाथ ने अब मोर्चा संभाला है। सीएम योगी आदित्यनाथ ने स्वास्थ्य विभगा में हुए तबादलों में गड़बड़ी मामले को संज्ञान में लेकर मुख्य सचिव दुर्गा शंकर मिश्रा से अब रिपोर्ट तलब की है। स्वास्थ्य विभाग में तबादले में गड़बड़ियों पर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ काफी नाराज हैं।

Read also: Rain in Lucknow: लखनऊ में नज़ाकत से हुई बारिश, नफीस हुआ मौसम

बता दें कि स्वास्थ्य विभाग में सीएमओ, सीएमएस, चिकित्सक और पैरा मेडिकल स्टाफ के तबादलों में गड़बड़ी की बात सामने आई थी। इसके बाद इस पूरे मामले को लेकर बवाल मच गया। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने मुख्य सचिव दुर्गा शंकर मिश्रा के साथ अपर मुख्य सचिव गृह अवनीश कुमार अवस्थी और संजय भूसरेड्डी को इस मामले में रिपोर्ट तैयार करने की जिम्मेदारी दी है। तीनों अधिकारियों को तबादला मामले में आख्या तैयार कर दो दिन के भीतर रिपोर्ट देने के लिए कहा है। 


बीते दिनों स्वास्थ्य विभाग संभाल रहे उप मुख्यमंत्री ब्रजेश पाठक ने भी अपर मुख्य सचिव चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अमित मोहन प्रसाद को भी पत्र लिखकर तबादलों पर सवाल उठाए थे। उनके पत्र के जवाब में अमित मोहन प्रसाद ने कहा कि सब कुछ नियमानुसार हुआ है। तबादलों में गड़बड़ी पर डाक्टर और कर्मचारी अब लामबंद हो गए। इन सभी ने आंदोलन की योजना बनाई है। इन सभी का कहना है कि प्रांतीय चिकित्सा सेवा (पीएमएस) संवर्ग के डाक्टरों के तबादले में गड़बड़ियां हुई है। इसके लिए पीएमएस एसोसिएशन ने दोषी अधिकारियों पर कार्रवाई की मांग की।

Read also: Lucknow news today : अब लखनऊ में लक्ष्मण टीला मुक्ति यात्रा

मामले में उप मुख्यमंत्री ब्रजेश पाठक और महानिदेशक चिकित्सा एवं स्वास्थ्य को पत्र लिखकर चेतावनी दी गई कि अगर निदेशक प्रशासन पर कार्यवाही नहीं हुई तो जल्द ही आंदोलन किया जाएगा। गड़बड़ी को लेकर पैरामेडिकल कर्मचारियों ने आगामी 14 जुलाई को प्रदर्शन करने की घोषणा की। कर्मचारी संयुक्त परिषद बैनर तले कर्मचारी गलत तरीके से हुए विभागीय तबादलों को रद करने की मांग करेंगे। गलत ढंग से हुए तबादलों के कारण अस्पतालों में डाक्टरों और कर्मियों की कमी है।