NIA Raid: रोहिंग्या शरणाथी के कब्जे से एनआईए को मिले आपत्तिजनक दस्तावेज,एजेंसी कर रही पूछताछ

 
nia

देवबंद। देवबंद में एनआईए टीम ने मदरसे से इस्लामी शिक्षा ग्रहण करने वाले रोहिंग्या शरणार्थी को पूछताछ के लिए हिरासत में लिया। एनआईए पहले छात्र को कोर्ट में लेकर पहुंची उसके बाद वह उसे अपने साथ ले गई। छात्र को हिरासत में लिए जाने के संबंध में कोई भी अधिकारी कुछ बताने को तैयार नहीं हैं। रोहिंग्या से पूछताछ में आपत्तिजनक दस्तावेज बरामद हुए है। रोहिंग्या शरणार्थी देवबंद से अरबी कक्षा छह में पढ़ाई कर रहा था। वह फर्जी कागजातों के जरिए यहां पर रह रहा था। रोहिंग्या का नाम मुजीबुल्लाह पुत्र हबीबुल्ला है। मुजीबुल्लाह सोविता फरिका राज्य अरकान म्यांमार का रहने वाला है। वह एक माह से मदरसा जकरिया में तालीम हासिल कर रहा था। महल मोहल्ला में एक मकान में वह कमरा किराए पर लेकर रहता था।

Read also: इमरान ने सत्ता परिवर्तन के लिए खुले तौर पर बाइडेन प्रशासन को साजिश का हिस्सा बताया


मुजीबुल्लाह के पास से तलाशी में एनआईए को संयुक्त राष्ट्र शरणार्थी उच्चायुक्त कार्यालय (यूएनएचआरसी) में रजिस्ट्रेशन का कार्ड मिला। बताया जाता है कि छात्र कोई पुराना मामला कोर्ट में विचाराधीन है। एनआईए की टीम कोर्ट के आदेश पर उसे ले गई है। इस संबंध में अधिकारियों ने कुछ भी बताने से मना कर दिया। 

Read also: Gujarat Chunavi Dangal : हार्दिक के आरोपों पर कांग्रेस का जवाब, बताया अवसरवादी


मदरसा मोहतमिम मुफ्ती शरीफ खान कासमी ने बताया कि रोहिंग्या के पास शरणार्थी कार्ड था। इसी के आधार पर उसे एडमिशन दिया गया था। एनआईए की टीम उसको क्यों ले गई। इसके बारे में उनको जानकारी नहीं है। एनआईए की टीम रोहिंग्या मुजीबुल्ला को सफेद रंग की इनोवा कार में पुलिस चौकी लेकर पहुंची। जहां एनआईए टीम के अधिकारी उसे लेकर कार में बैठे रहे। कुछ देर बाद पुलिस चौकी के दो सिपाही एक बैग टीम को देने पहुंचे। उसके बाद टीम रवाना हो गई। वहीं महाराष्ट्र एटीएस देवबंद की नजमी बिल्डिंग से 14 मार्च को गिरफ्तार किए गए झारखंड के संदिग्ध आतंकी इनामुलहक को लेकर पहुंची। जहां एटीएस ने कमरे की तलाशी ली। 
एटीएस ने राष्ट्रविरोधी गतिविधियों में लिप्त होने पर उसको गिरफ्तार किया था। जांच में उसके संबंध आतंकी संगठन लश्कर-ए-तय्यबा से मिले थे।