लखीमपुर काण्ड: नाबालिग बहनों की हत्या से पहले हुआ बलात्कार

 
Lakhimpur Kheri Dalit Sisters Case

किसानों को थार से रौंदने की घटना से चर्चा में आये लखीमपुर-खीरी में अब एक और दर्दान्त घटना हुई जिसमें दलित समुदाय की दो नाबालिग बहनों की रेप के बाद हत्या कर दी गयी. रेप का खुलासा आज आयी पोस्टमॉर्टेम रिपोर्ट से हुआ है. इस मामले में 6 लोगों को गिरफ्तार किया गया है जिसमें से एक को मुठभेड़ के दौरान पुलिस की गोली भी लगी है. सभी आरोप एक ही गाँव के रहने वाले हैं. इन लोगों ने अपना अपराध स्वीकार कर लिया है अरु इनके ऊपर पोस्को एक्ट के साथ धारा 302 और 306 लगाई गयी है. 

दरअसल कल उत्तर प्रदेश के लखीमपुर-खीरी में दो नाबालिग सगी बहनों के शव को पेड़ से लटके हुए पाए गए थे. दोनों लड़कियां दलित समुदाय से बताई जा रही हैं. नाबालिग लड़कियों के पेड़ से लटके शव मिलने के बाद पुलिस प्रशासन में हड़कंप मच गया और गाँव में अफरातफरी फ़ैल गयी. पुलिस फ़ौरन हरकत में आयी और इस घटना में शामिल सभी आरोपियों को गिरफ्त में ले लिया। सावों को पोस्टमॉर्टेम के लिए भेज दिया गया जिसकी रिपोर्ट आज आयी जिसमें बलात्कार के बाद गला दबाकर हत्या किये जाने की बात सामने आयी. 

इससे पहले पुलिस ने खुलासा किया था कि पहले लड़कियों से दोस्ती की गयी और उसके बाद इस घटना को अंजाम दिया गया. पुलिस के मुताबिक हत्या के बाद आरोपियों ने सबूत मिटाने के प्रयास किये हैं. वहीँ लड़कियों की मां का कहना है कि गांव के ही एक लड़के के साथ तीन अज्ञात लड़के अचानक मेरे घर आए और मेरी बेटियों से हाथापाई करके उन्हें उठाने लगे उनमें से एक ने मुझे कसकर जकड लिया और लात घूंसों से पिटाई की. फिर लोग बेटियों को मोटर साइकिल पर लादकर गांव के उत्तर की तरफ खेतों में लेकर चले गए. बाद में काफी देर ढूंढने के बाद लड़कियों के शव पेड़ से लटके मिले. परिजनों का आरोप था कि उनकी बच्चियों की बलात्कार के बाद हत्या की गयी हैं और शवों को पेड़ से लटकाया गया है. 

इस मामले में मां की लिखित शिकायत के बादपुलिस ने  FIR दर्ज की थी. घरवालों ने कल पुलिस पर लड़कियों के शव को ज़बरदस्ती क़ब्ज़े में लेने का आरोप लगाते हुए हंगामा किया था. पुलिस के खिलाफ पूरा गाँव इकठ्ठा हो गया था, गाँव वालों जाम भी लगा दिया था, वहीँ घटना स्थल पर लखीमपुर खीरी के SP से गाँव वालों की तीखी नोकझोंक भी हुई थी. वहीँ पुलिस द्वारा बताई गयी कहानी के मुताबिक नाबालिग लड़कियों के पड़ोस में छोटू नाम का लड़का रहता है. छोटू ने उनकी पहचान सोहेल और जुनैद से कराई थी. ये दोनों ही एक और लड़के के साथ लड़कियों को बहलाफुसला कर बाइक से खेत पर ले गए. पुलिस के मुताबिक लड़कियों के पहरण की बात ग़लत है. पुलिस के मुताबिक खेत पर सोहेल और जुनैद ने लड़कियों के साथ गन्दा काम किया. लड़कियों ने इसके बाद जब सोहेल और जुनैद से शादी की बात की तो दोनों ने साफ़ इनकार कर दिया. इसके बाद लड़कियों से काफी कहा सुनी हुई जिसके बाद सोहेल, जुनैद और दुसरे लड़के हफीजुरहमान लड़कियों की चुनरी से ही उनका गला दबाकर हत्या कर दी. हत्या करने के बाद बाद इन लोगों ने दो अपने दो साथियों करीमुद्दीन और आरिफ को बुलाया और उनकी मदद से लड़कियों के शवों को पेड़ से लटका कर आत्महत्या को रंग देने की कोशिश की.