Crime News: सुरक्षा के दावों की पोल खोल रही दुष्कर्म की बढ़ती घटनाएं, हर दिन तार-तार हो रही आधी आबादी की आबरू

 
Crime News

पश्चिमी उप्र में दुष्कर्म की घटनाएं लगातार बढ़ती जा रही है। आधी आबादी की आबरू हर दिन तार-तार हेा रही है। ऐसी घटनाओं से जहां उप्र में योगी सरकार की बदनामी हो रही है। वहीं पश्चिमी उप्र में इन शर्मनाम घटनाओं से लोगों में दहशत फैली हुई हैं। पांच साल की बच्ची से लेकर महिलाएं तक अपने आप को असुरक्षित महसूस कर रहीं हैं। हालात ये हैं कि कहीं बच्ची को डाक्टर निशाना बना रहे हैं तो कहीं महिला के साथ दरिदगी की हदे पार की जा रही है। बच्ची और महिलाओं के साथ पिछले दो सप्ताह में छह से अधिक घटनाएं हो चुकी हैं। मेरठ में बाल रोग विशेषज्ञ डॉक्टर गगन अग्रवाल पर 12 वर्ष की बच्ची से दुष्कर्म का आरोप है। बताया जाता है कि बच्ची अपने मामा के साथ डॉक्टर के गंगानगर स्थित क्लीनिक पर इलाज के लिए गई थी। मां की तहरीर पर डॉक्टर के खिलाफ दुष्कर्म, पॉक्सो एक्ट में मुकदमा दर्ज किया है। वहीं दूसरी घटना सरूरपुर थाना क्षेत्र के एक गांव की है। जहां पर गांव निवासी महिला से युवक ने दुष्कर्म किया। बताया जाता है कि एक हफ्ते पहले विवाहिता के साथ खिवाई निवासी उसके ननदोई उर्फ सलीम ने दुष्कर्म किया था। 

वहीं तीसरी घटना बागपत की है। जहां पर एक युवक की भांजी के साथ दुष्कर्म का मामला सामने आया है। पुलिस ने मामला दर्ज किया है। आरोपी अब पीड़िता की मां को मुकदमा वापस नहीं लेने पर जान से मारने की धमकी दे रहा है। वहीं चौथी घटना भी बागपत से हैं जहां पर रमाला थाना क्षेत्र में एक युवक ने युवती के साथ दुष्कर्म किया और फरार हो गया। उसको पुलिस ने दबिश देकर गिरफ्तार किया तो आरोपी थाने से ही हथकड़ी खोलकर फरार हो गया था। पाचवीं घटना शामली जिले से हैं जहां पर एक महिला ने अपने देवर पर कोल्ड ड्रिंक में नशीला पदार्थ देकर दुष्कर्म करने का आरोप लगाया है। पुलिस ने एसपी के आदेश पर रिपोर्ट दर्ज कर जांच शुरू की है। ऐसे ही एक अन्य घटना  कांधला थाना क्षेत्र की सामने आई है। जहां गांव निवासी व्यक्ति ने पड़ोसी पर अपने सात वर्षीय पुत्र को बहला-फुसलाकर कुकर्म करने का आरोप लगाया है। ये कछ ऐसी घटनाए हैं जो यह बताने के लिए काफी है कि किस तरह से समाज में दुष्कर्म की घटनाएं तेजी से बढ़ रही हैं। आईजी प्रवीण कुमार का कहना है कि दुष्कर्म के मामलों में तेजी से और जल्द कार्रवाई के निर्देश सभी थानेदारों को दिए गए हैं। लापरवाही पर उनके खिलाफ कार्रवाई भी की जा रही है।