आनर किलिंग: बेटी ने गांव के युवक से किया प्यार तो आन की खातिर ने परिजनों ने लाड़की को बिटौडे़ में फूंका

 
Honour Killing

शामली। दो दिन पहले ही बागपत में प्रेम विवाह और सजातीय विवाह के खिलाफ बागपत में सर्वखाप पंचायत हुई थी। उसके ठीक बाद ही पश्चिमी उप्र के शामली में प्रेम प्रसंग के चलते परिजनों ने बेटी की हत्या का शव को बिटौडे़ में फूंक दिया। इसकी जानकारी पुलिस केा हुई तो हड़कंप मच गया। पुलिस ने बिटौडे़ से शव के अवशेष बरामद कर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है।  जिले में एक और बेटी आनर किलिंग की भेंट चढ़ गई है। परिजनों ने आन के खातिर बेटी को मौत के घाट उतार दिया है। घटना थाना झिंझाना क्षेत्र की है। जहां पिता ने अपनी लाड़ली को मौत के घाट उतारा। बेटी की खता सिर्फ इतनी थी कि उसने एक युवक से प्यार किया था और उससे शादी करने की बात घर वालों से कर रही थी। यह बात पिता को नागवार गुजरी। इसके बाद पिता ने बेटी की हत्या का प्लान बनाया और उसे खौफनाक मौत दे दी।

बेटी की हत्या कर कातिल पिता ने लाड़ली के शव को बिटौड़े में रखकर जला दिया। इसके बाद खुद थाने जाकर इसकी सूचना दे दी। पुलिस मौके पर पहुंची तो पिता अनजान बना रहा लेकिन सख्ती से पूछताछ हुई तो वह टूट गया और वारदात का सच उगल दिया। पुलिस ने आरोपी पिता को कोर्ट में पेश कर जेल भेज दिया। आगे झिंझाना थाना क्षेत्र में आन की खातिर पुत्री की हत्या कर शव बिटौड़े में फूंकने वाले पिता का पुलिस ने चालान किया है।  जानकारी के अनुसार नया गांव नाले की पटरी पर सुबह केला पत्नी भंवर सिंह गोबर डालने गई तो उसने अपना बिटौड़ा जलता देखा। इसकी जानकारी उसने पति भंवरसिंह को दी। वह मौके पर पहुंच गया और बिटौड़े की राख में एक कंकाल शव के जले अवशेष होने की बात कहकर पुलिस को सूचना दी।

सूचना पर जिले के एसपी अभिषेक झा, एएसपी ओपी सिंह सहित अन्य अधिकारी मौके पर पहुंचे। पुलिस ने जले बिटौड़े के चारों तरफ सीमांकन कर फोरेंसिक टीम और डॉग स्क्वायड को बुलाया। कंकाल के अवशेषों को एकत्र कर जांच के लिए भेज दिया था। इस दौरान आरोपी भंवरसिंह अनजान बनकर पुलिस के साथ घूमता रहा था। अवशेषों से चूड़ी व कंगन मिला तो पुलिस को पुख्ता जानकारी हुई कि कंकाल किसी महिला का है। जिसके बाद पुलिस ने ऑनर किलिंग के पहलू पर जांच शुरू की। इससे पता चला कि गांव के प्रमोद की बेटी का गांव के ही अजय कश्यप के साथ प्रेम प्रसंग चल रहा था। पिता पर शक होने पर पुलिस ने भंवर सिंह से पूछताछ की तो उसने सच उगल दिया। आरोपी पिता ने बताया कि बेटी से मना किया लेकिन वह नहीं मानी। वह अजय के साथ फरार हो गई थी। वापस लौटने पर परिजनों ने उसके अजय से मिलने पर रोक लगा दी थी। लेकिन इसके बाद भी वह नहीं मानी। इसके बाद पर पिता प्रमोद ने गला दबाकर हत्या कर दी और फिर रात के अंधेरे में बेटी का शव बिटौड़े में जला दिया।