हिंदुस्तानी रंग में विदेशी दुल्हा-दुल्हन: सेरेमिका ने अपनी दुल्हन क्लाउडिया की मांग में भरा सिंदूर लिए सात फेरे

 
हिंदुस्तानी रंग में विदेशी दुल्हा-दुल्हन: सेरेमिका ने अपनी दुल्हन क्लाउडिया की मांग में भरा सिंदूर लिए सात फेरे

आगरा। भारतीय संस्कृति के मुरीद विदेशी लोग आज भी उतने ही हैं जितने कि पहले थे। विदेशी अपनी भारतीय संस्कृति को अपनाते भी रहे हैं। मैक्सिको की रहने वाली क्लाउडिया और सेरेमिको ने भारतीय संस्कृति से प्रभावित होकर हिंदू रीति-रिवाज से शादी की। दोनों सात सितंबर को भारत आए थे। उन्होंने अपनी शादी के लिए ताजनगरी आगरा को चुना। ताजमहल देखने के बाद क्लाउडिया और सेरेमिका ने शिव मंदिर में वैदिक मंत्रों के बीच अग्नि को साक्षी मानकर सात फेरे लिए। दूल्हा बने सेरेमिका ने अपनी दुल्हन क्लाउडिया को तांगे में बैठाया और इसके बाद विदा कराकर होटल ले गए। विदेशी जोड़े की शादी में गाइड, ड्राइवर और उनके भारतीय दोस्त बराती बने। बरातियों संग दूल्हा-दुल्हन ने जमकर डांस भी किया। भारतीय रंग में रंगे विदेशी जोड़े की खुशी दिखते बन रही थी। बता दें कि इससे पहले भी कई विदेशी जोड़े आगरा में आकर हिंदू रीति रिवाज से शादी कर चुके हैं। 

क्लाउडिया और सेरेमिको के बीच 10 साल से प्रेम संबंध था। दोनों लिव इन में रह रहे थे। क्लाउडिया भारतीय संस्कृति से बेहद प्रभावित थे। वह पहले भारत आ चुकी हैं। उस दौरान वाराणसी में उन्होंने भारतीय संस्कृति को करीब से जाना था। वाराणसी दौरे के दौरान क्लाउडिया ने हिंदू रीति-रिवाज से शादी करने का फैसला किया था। उन्होंने इस बारे में अपने प्रेमी सेरेमिको से बात की तो वह भी इसके लिए तैयार हो गए। दोनों ने भारतीय हिंदू संस्कृति और परंपराओं के बारे में पढ़ा और समझा। क्लाउडिया और सेरेमिको ने बताया कि उन्हें पता चला कि सात फेरे लेकर हिंदू रीति रिवाज से शादी करने के बाद सात जन्मों तक एक-दूसरे का साथ रहता है। इस पर उन्होंने आगरा में हिंदू रीति-रिवाज से शादी करने का फैसला किया।