मतांतरण: महिला से जबरन किया नि​काह दो साल के बच्चे का कराया खतना,आरोपी गिरफ्तार

 
crime up news

गाजियाबाद। जिले के थाना नंद ग्राम क्षेत्र में मतांतरण का एक अनोखा मामला सामने आया है। जहां बच्चे का खतना कर मतांतरण कराया है। मामला उस वक्त सामने आया जब हिंदू युवा वाहिनी को पूरे प्रकरण की जानकारी हुई। हिंदू युवा वाहिनी  जिलाध्यक्ष ने थाना नंद ग्राम में आरोपी के खिलाफ तहरीर दी है। दी गई तहरीर के आधार पर पुलिस ने रिपोर्ट दर्ज कर आरोपी को हिरासत में लेकर पूछताछ शुरू की है। जानकारी के अनुसार नंद ग्राम निवासी एक महिला की शादी 2018 दिसंबर को हुई थी। करीब तीन साल पहले उसका पति छोड़कर चला गया था। उस दौरान महिला गर्भवती थी। महिला मायके आ गई और उसको एक बेटा हुआ। महिला की मुलाकात एक ऑटो चालक से हुई। जिसने महिला को अपना नाम गुड्डू बताया। महिला को कुछ पैसे की  आवश्यकता थी। महिला ने गुड्डू से खर्चे के लिए कुछ पैसे मांगे तो गुड्डू ने उसके बारे में जानकारी कर मदद की और सहारा देने के नाम पर उसे करीब एक हफ्ते तक अपनी बहन के घर पर रखा। उसके बाद वह पीलीभीत क्षेत्र के पूरनपुर गांव ले गया।महिला का आरोप है कि वहां पहुंचने के बाद उसे उसके मुसलमान होने का पता चला। आरोप है कि गुड्डू ने महिला के सामने निकाह करने का प्रस्ताव रखा। लेकिन महिला ने ठुकरा दिया।

Read also: Oak Tree Meerut - बाईपास के होटल और रिसोर्ट बने जिस्मफरोशी का ठिकाना, कमान कबाड़ी बाजार की हसीनाओं के हाथ

आरोपी गुडडू ने उसके बेटे को दो दिन तक बंधक बनाकर रखा और उसका खतना करा दिया। उसके बाद जबरन महिला से निकाह कर लिया। वह उन्हें पूरनपुर ही छोड़कर वापस गाजियाबाद आ गया। लेकिन महिला कुछ दिन बाद अपने बेटे को लेकर झंडापुर आ गई। महिला का आरोप है कि यहां आकर उसने गुड्डू से खर्चे के लिए पैसे मांगे तो उसने महिला के साथ मारपीट शुरू कर दी। इसकी जानकारी महिला ने अपनी बड़ी बहन को दी। महिला का बहनोई घटना की जानकारी होने पर हिंदू युवा वाहिनी के जिलाध्यक्ष आयुष त्यागी के पास पहुंचा। आयुष त्यागी ने पूरे मामले की शिकायत थाना नंदग्राम पुलिस को दी। पुलिस ने एफआईआर दर्ज कर आरोपी को हिरासत में लेकर पूरे मामले की जांच शुरू कर दी है। 

सीओ सिहानी गेट आलोक दुबे ने बताया कि इस तरह का मामला सामने आया है। हिंदू युवा वाहिनी जिलाध्यक्ष आयुष त्यागी की शिकायत के आधार पर आरोपी रहमत हसन के खिलाफ मारपीट और अंग भंग करने और धर्म परिवर्तन प्रतिषेध अधिनियम की धाराओं में मुकदमा दर्ज किया है।