Kanwar Yatra 2022: कांवड़ पर संप्रदाय विशेष के युवकों ने थूका तो हो गया बवाल,चौकी पर तोड़फोड़

 
Kanwar Yatra 2022

Kanwar Yatra 2022-  महानगर के थाना कंकरखेड़ा क्षेत्र हाईवे-58 चौकी के पास हरिद्वार से राजस्थान की ओर जा रही विशाल कांवड़ के ऊपर विशेष संप्रदाय के युवकों द्वारा थूकने पर हंगामा हो गया। कांवड़ियों ने एक युवक को धर दबोचा। जबकि दूसरा भाग गया। थूकने वाले युवक की कांवड़ियों ने जमकर पिटाई कर दी। युवक की पहचान विशेष संप्रदाय के युवक के रूप में हुई। इसके बाद कांवड़ियों ने हंगामा करते हुए हाइवे जाम कर दिया। इसके बाद मौके पर कई थानों की पुलिस पहुंची और गुस्साए कांवड़ियों को शांत करने का प्रयास किया तो कांवड़ियों ने हाईवे पुलिस चौकी में तोड़फोड़ शुरू कर दी। सूचना पर एसएसपी, एसपी सिटी, एसपी ट्रैफिक के अलावा जिलाधिकारी सहित कई थानों की पुलिस पहुंची। अधिकारियों ने कांवड़ियों को समझा कर शांत करने का प्रयास किया। लेकिन कांवड़िये मानने को तैयार नहीं थे। बाद में जैसे तैसे कांवड़ियों को समझाया गया। 

Kanwar Yatra 2022

Kanwar Yatra 2022

Read also: Breaking News: डिहाइड्रेशन और डायरिया की चपेट में आ रहे कांवड़िये

Kanwar Yatra 2022

Kanwar Yatra 2022

राजस्थान के जिला भरतपुर तहसील गांव सीकरी निवासी हनी मुखीजा,लोकेश,दिशांत, धीरज, कपिल,  सचदेवा,कपिल और जतिन कावड़ियों ने बताया कि वह पिछले दो महीने से विशाल कांवड़ को हरिद्वार से लाने की तैयारी में जुटे थे। 21 जुलाई को राजस्थान के 40 कांवरियों का जत्था कांवड़ को लेकर राजस्थान के लिए चला। राजस्थान के कांवड़ियों ने बताया कि कंकरखेड़ा हाईवे 58 पर चौकी के नजदीक पहुंचते ही दो युवक डिवाइडर कूद कर आए और उनकी कांवड़ पर तीन चार जगह थूक दिया। इतना देख कांवड़ियों ने युवकों को घेरा। जिसमें एक को धर दबोचा। जबकि दूसरा भाग गया। कांवड़ियों ने पकड़े युवक की जमकर धुनाई की। इसी बीच पुलिस बल मौके पर पहुंची। आरोपी युवक को भीड़ से छुड़ाकर पुलिस अपने साथ ले गई। इस दौरान कांवड़ियों की भीड़  नारेबाजी करते हुए चौकी पहुंची और तोड़फोड़ कर दी। चौकी पर तोड़फोड़ की सूचना से पुलिस प्रशासन के होश उड़ गए। घटना की जानकारी के बाद डीएम एसएसपी सहित आलाधिकारी भारी पुलिस बल के साथ मौके पर पहुंचे। कांवड़िए रास्ते में विशाल कांवड़ को खड़ी कर नारेबाजी करने लगे। इस बीच भाजपा एमएलसी धर्मेंद्र भारद्वाज के साथ अन्य भाजपा नेताओं ने कावड़ियों को किसी तरह समझाकर शांत किया।