Queen Elizabeth Death: महारानी एलिजाबेथ का था भारत से गहरा रिश्ता, 70 के अपने काल में तीन बार किया दौरा

 
Queen Elizabeth Death

नई दिल्ली। ब्रिटेन की महारानी एलिजाबेथ द्वितीय का भारत से गहरा नाता था। वे 70 साल के अपने महारानी काल में तीन बार भारत आई। उनकी देश के प्रथम प्रधानमंत्री पं0 जवाहर लाल नेहरू से लेकर इंदिरा गांधी और आईके गुजराल  के अलावा राष्ट्रपतियों डॉ0 राजेंद्र प्रसाद, ज्ञानी जेल सिंह और केआर नारायणन से मुलाकातें हुई। पीएम नरेंद्र मोदी ने 2018 में लंदन में उनसे मुलाकात की थी।  महारानी एलिजाबेथ पहली बार 21 जनवरी 1961 को भारत दौरे पर आई थीं। तत्कालीन प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू और तत्कालीन राष्ट्रपति डॉ0 राजेंद्र प्रसाद दिल्ली के पालम एयरपोर्ट पर स्वागत करने पहुंचे थे। वह डॉ0 राजेंद्र प्रसाद के निमंत्रण पर गणतंत्र दिवस परेड में शामिल होने आई थीं। महारानी के साथ उनके पति स्व0 प्रिंस फिलिप आए थे। रॉयल दंपती ने दिल्ली के अलावा मुंबई, चेन्नई व कोलकाता तथा आगरा के प्रसिद्ध ताजमहल का दौरा किया था। दिल्ली में राजघाट जाकर राष्ट्रपिता महात्मा गांधी को श्रद्धांजलि दी थी। तब महारानी ने दिल्ली के रामलीला मैदान में हजारों लोगों की सभा को संबोधित किया था।

एलिजाबेथ द्वितीय की दूसरी भारत यात्रा 7 नवंबर 1983 को हुई थी। तब तत्कालीन प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी और तत्कालीन राष्ट्रपति ज्ञानी जेल सिंह ने स्वागत किया था। इसी दौरान उन्होंने मदर टेरेसा को मानद सम्मान ‘ऑर्डर ऑफ द मेरिट’ प्रदान किया था। वे राष्ट्रमंडल देशों के सम्मेलन में भाग लेने दिल्ली आई थीं।  दिवंगत महारानी इसके बाद 13 अक्टूबर 1997 को तीसरी बार भारत आई। उस दौरान तत्कालीन पीएम इंद्र कुमार गुजराल और तत्कालीन राष्ट्रपति केआर नारायणन ने  महारानी का स्वागत किया था। इसी दौरान शाही दंपती ने आजादी के आंदोलन के दौरान जलियांवाला बाग हत्याकांड का जिक्र करते हुए दुखद बताया था। इसके बाद महारानी और प्रिंस फिलिप ने जलियांवाला बाग स्मारक जाकर शहीदों को श्रद्धांजलि दी थी। 

Read also: Queen Elizabeth II Death: महारानी एलिजाबेथ द्वितीय के निधन पर शोक में डूबा ब्रिटेन, दस दिन बाद होगा अंतिम संस्कर

महारानी एलिजाबेथ द्वितीय से पीएम नरेंद्र मोदी ने 2015 और 2018 में ब्रिटेन यात्रा के दौरान मुलाकात की थी। पीएम ने उन्हें श्रद्धांजलि देते हुए कहा है कि वो उनकी गर्मजोशी और दयालुता को नहीं भूलेंगे। पीएम मोदी को महारानी ने एक मुलाकात के उन्हें वह रूमाल दिखाया  जो महात्मा गांधी ने उन्हें उनकी शादी में उपहार के दौरान दिया था। महारानी एलिजाबेथ ने भारत में गर्मजोशी से हुए स्वागत सत्कार की तारीफ की थी। उन्होंने एक संबोधन में कहा था कि भारतीयों की गर्मजोशी और आतिथ्य भाव के अलावा भारतीय  समृद्धि और विविधता सभी के लिए एक प्रेरणा रही है।