Kisan Andolan: किसान आंदोलन फिर शुरू करने की तैयारी

 
kisan andolan

मोदी सरकार के झूठे वादों से अपने को ठगा सा महसूस कर रहे किसानों ने अब फिर एकजुट होना शुरू कर दिया है और जल्द ही एमएसपी में गारंटी कानून और किसानों पर हुए फ़र्ज़ी केसों की वापसी को लेकर आंदोलन छेड़ा जा सकता है. इस आंदोलन की रूपरेखा संयुक्त किसान मोर्चा की 4 सितम्बर को होने वाली बैठक में लिया जा सकता है. SKM इसबार के आंदोलन में युवा किसान नेताओं को आगे करना चाहता है ताकि आंदोलन जोशीला रहे. 

किसान नेता युद्धवीर सिंह का कहना है कि किसान आंदोलन खत्मक नहीं हुआ था बल्कि मोदी सरकार के आश्वासनों के बाद स्थगित हुआ था. लेकिन सरकार के आश्वासन अबतक आश्वासन ही साबित हुए हैं. इसलिए आंदोलन को फिर से खड़ा करना किसानों की मजबूरी है. किसान नेता ने कहा कि सरकार द्वारा MSP को लेकर बनाई गयी कमेटी के चेयरमैन और सदस्य सभी किसानों के विरोधी हैं इसलिए इनसे कुछ उम्मीद रखना बेकार है, उन्होंने कहा कि 4 सितम्बर को होने वाली SKM की बैठक में इसबारे में आंदोलन को लेकर अंतिम फैसला लिया जाएगा.

किसान नेताओं के बीच फुट की बातों को लेकर युद्धवीर सिंह ने कहा कि संयुक्त किसान मोर्चा के नेताओं में मतभेद हो सकता है, विवाद भी हो सकता है लेकिन उसे फूट कहना गलत होगा. उन्होंने कहा कि एक बार MSP पर आंदोलन शुरू होने दीजिये सभी आपको एक ही प्लेटफॉर्म पर नज़र आएंगे। लखीमपुर काण्ड से कुख्यात हुए केंद्रीय गृह राज्य मंत्री अजय मिश्रा टेनी के विवादित बयान पर युद्धवीर सिंह ने कहा कि बेटे के जेल जाने और खुद के जेल जाने के खौफ से वह अपना मानसिक संतुलन खो चुके हैं. भले वह देश के गृह राज्य मंत्री हों लेकिन वह खुद को हमेशा बदमाश और गुंडा समझते हैं और उसपर गर्व भी करते हैं.