Breaking News: बाबा चरण सिंह का नाम हटाए जाने पर बिफरे पोते जयंत चौधरी ने कृषि मंत्री को लिखा पत्र

 
Breaking News

नई दिल्ली। किसान मसीहा कहे जाने वाले और देश के पूर्व प्रधानमंत्री दिवंगत चौधरी चरण सिंह का नाम  रालोद अध्यक्ष चौधरी जयंत सिंह ने पूर्व प्रधानमंत्री चौधरी चरण सिंह के नाम पर नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ एग्रीकल्चरल मार्केटिंग जयपुर से हटा देने पर उनके पोते और रालोद के अध्यक्ष जयंत चौधरी ने आपत्ति जताई है। इस संबंध में जयंत चौधरी ने केंद्रीय कृषि मंत्री को पत्र लिखकर अपनी और रालोद की ओर से विरोध जताया है। बता दें कि नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ एग्रीकल्चरल मार्केटिंग जयपुर का विलय अब हैदराबाद के नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ एग्रीकल्चर एक्सटेंशन मैनेजमेंट में कर दिया गया है। जिसके बाद इसमें से पूर्व प्रधानमंत्री चौधरी चरण सिंह का नाम हटा दिया गया है।

Read also: Gyanvapi Masjid Case: ज्ञानवापी मस्जिद प्रकरण में डेढ़ घंटे बहस के बाद हाईकोर्ट ने सर्वे की तिथि 31 अगस्त तक बढ़ाई

एग्रीकल्चर एक्सटेंशन मैनेजमेंट में विलय करने के बाद भी पूर्व प्रधानमंत्री चौधरी चरण सिंह का नाम इसमें नहीं देने पर रालोद अध्यक्ष जयंत चौधरी ने अपनी आपत्ति जताई है। रालोद के चौधरी जयंत सिंह ने केंद्रीय कृषिमंत्री नरेंद्र सिंह तोमर को इस संबंध में पत्र लिखा है। जयंत चौधरी ने कहा है कि पूर्व प्रधानमंत्री स्वर्गीय चौधरी चरण सिंह स्वतंत्रता सेनानी के साथ एक कुशल राजनेता रहे हैं। उन्होंने देश के किसानों और गरीबों के हक के लिए लड़ाई लड़ी थी। उन्होंने विपक्ष में रहते राष्ट्र की उन्नति के लिए कार्य किए। अब दो संस्थानों के विलय में उनका नाम हटा दिया गया।