जम्मू-काश्मीर में आया बड़ा परिवर्तन, चारों ओर विकास की बयार: मनोज सिन्हा

 
मानेज सिन्हा

जम्मू कश्मीर के उप राज्यपाल मनोज सिन्हा आज चौधरी चरण सिंह विश्वविद्यालय में आयोजित दुष्यंत स्मृति सम्मान समारोह में मुख्य अतिथि के तौर पर उपस्थित हुए। इस दौरान उनका जोरदार स्वागत किया। अपने भाषण में उन्होंने जम्मू-काश्मीर के आतंकवाद, रोजगार और विकास पर खुलकर विवार रखे। उन्होंने कहा कि काश्मीर में धारा 370 खत्म होने के बाद से अब जम्मू कश्मीर निखर रहा है। उन्होंने कहा कि धारा 370 के खत्मे के बाद आतंकवाद की कमर टूट गई है। आतंकवाद के पूरे इकोसिस्टम पर प्रहार किया जा रहा है। 

उन्होंने कहा कि जम्मू कश्मीर में बड़ा परिवर्तन आया है। एक जमाना था भारत सरकार के विमान में शांति के लिए आतंकवादियों को लाते थे। पहले शांति खरीदी जाती थी और अब शांति स्थापित हो रही है। कश्मीर में किसी निर्दाेष की हत्या नही होती। उन्होंने कहा कि अब आतंकवाद खात्मे की ओर है। घाटी में 96.68 फीसद तक आतंकी घटनाओं में कमी आयी है। पिछले सात महीने में 147 आतंकवादी सुरक्षाबलों द्वारा मार गिराए गए है। इसमें 42 विदेशी आतंकी शामिल है। उपराज्यपाल ने कहा कि देश दुनिया की पांचवी बड़ी अर्थव्यवस्था बन गया है। हमने उसे पीछे कर दिया। जिस देश के हम सदियों तक गुलाम रहे थे। पांच अगस्त 2019 जम्मू कश्मीर को बदलने की तारीख थी। स्वाधीनता में पहला बिगुल मंगल पांडे ने फूंका था। ऐसा कश्मीर के लिए श्यामा प्रसाद मुखर्जी ने उठाया था। जम्मू कश्मीर आत्मविश्वास से भरा है। सभी सामाजिक न्याय का इंतज़ार कर रहे है। जम्मू कश्मीर घर-घर तिरंगा अभियान में पहले नंबर पर रहा है। त्राल और पुलवामा में युवाओं ने भारत माता की जय के जयकारे लगाए। 

कृषि में जम्मू कश्मीर के किसानों की आय दोगुनी से अधिक हो गयी। उप्र के किसानों की मासिक आय 8601 रुपये जबकि जम्मू कश्मीर के किसानों की मासिक आय 18101 रुपये है। देश के सभी राष्ट्रीय औसत के आंकड़ों में जम्मू कश्मीर काफी आगे है।