राहत की खबर: मुद्रास्फीति में कमी के बाद महंगाई से मिलेगी लोगों को राहत

 
राहत की खबर: मुद्रास्फीति में कमी के बाद महंगाई से मिलेगी लोगों को राहत

नई दिल्ली। आरबीआई गवर्नर शक्तिकांत दास ने आज कहा है कि वित्तीय वर्ष 2022-23 के दूसरे छमाही में मु्द्रस्फीत में कमी आने की उम्मीद है। इससे लोगों को महंगाई से राहत मिल सकती है। इससे अर्थव्यवस्था में मंदी आने की संभावना कम हुई है। 

Read also: एक नई विश्व वित्तीय व्यवस्था पर बातचीत की जाएगी : मॉस्को


आरबीआई गवर्नर ने कहा कि बाजार आपूर्ति के दृष्टिकोण से सही दिख रहा है। कई उच्च आवृत्ति संकेतक 2022-23 की पहली तिमाही में रिकवरी की ओर इशारा करते हैं। आरबीआई गवर्नर ने कहा कि आरबीआई का वर्तमान आकलन है कि 2022-23 की दूसरी छमाही में मुद्रास्फीत कम हो सकती है। गवर्नर शक्तिकांत दास ने बयान कौटिल्य इकोनॉमिक कॉनक्लेव के दौरान दिया है। 

Read also: Uttar Pradesh News: नये वित्तीय वर्ष में यूपी को सबसे ज्यादा बिजली की आवश्यकता, कसी कमर


आरबीआई गवर्नर ने कहा कि वर्तमान दौर मुद्रास्फीत के ग्लोबलाइजेशन का दौर है। पूरी दुनिया इससे प्रभावित है। आरबीआई गवर्नर ने कहा कि कोरोना संक्रमण से प्रभावित अर्थव्यवस्था में सुधार होने लगा है। लेकिन मुद्रास्फीत अब एक बड़ी समस्या बनी हुई है। अब भी यह केंन्द्रीय बैंकों के अनुमानों के ऊपर है। बता दें कि बढ़ती महंगाई से निपटने के लिए आरबीआई ने मई माह से अब तक रेपो में लगभग 4.9 फीसदी की बढ़ोतरी की है। उन्होंने उम्मीद जतायी कि आरबीआई का रेट सेटिंग पैनल अगस्त में होने वाली बैठक में पॉलिसी रेट्स को बढ़ाने का फैसला ले सकेंगे।