Thursday, October 21, 2021
Homeन्यूज़नेशनलजी20 कंपनियों का जलवायु का केवल 20 फीसदी विज्ञान आधारित लक्ष्य :...

जी20 कंपनियों का जलवायु का केवल 20 फीसदी विज्ञान आधारित लक्ष्य : अध्ययन

नई दिल्ली, 23 सितम्बर (आईएएनएस)। जी20 में कंपनियों की बढ़ती संख्या जलवायु लक्ष्य निर्धारित कर रही है, लेकिन अधिकांश जलवायु विज्ञान के साथ तालमेल बिठाने में विफल हैं, यह वैश्विक निकाय व्यवसायों को विज्ञान के अनुरूप उत्सर्जन में कमी के लक्ष्य निर्धारित करने में सक्षम बनाता है।

जी20 में 4,215 कंपनियों ने क्लाइमेट डिस्क्लोजर प्रोजेक्ट (सीडीपी) के डेटाबेस में जलवायु लक्ष्यों का खुलासा किया है, लेकिन इनमें से केवल 20 प्रतिशत पेरिस समझौते के लक्ष्यों के अनुरूप विज्ञान-आधारित लक्ष्य हैं।

यह जी7 में 2,999 कंपनियों और जी13 में 1,216 कंपनियों से बना है। जी7 में 25 प्रतिशत लक्ष्य विज्ञान आधारित हैं, जबकि जी13 में केवल छह प्रतिशत लक्ष्य हैं।

जी7 देशों का नेतृत्व यूके और फ्रांस द्वारा किया जाता है, जिसमें 41 प्रतिशत और 33 प्रतिशत प्रकट जलवायु लक्ष्य विज्ञान आधारित हैं।

इस बीच, दुनिया के कुछ सबसे भारी उत्सर्जक, जो जी13 देशों के समूह में पाए जाते हैं – जैसे कि इंडोनेशिया, रूस और सऊदी अरब में एक भी कंपनी शामिल नहीं है जिसने अनुमोदित विज्ञान-आधारित लक्ष्य प्रस्तुत किया हो।

अगस्त में यूएन इंटरगवर्नमेंटल पैनल ऑन क्लाइमेट चेंज (आईपीसीसी) की रिपोर्ट में कहा गया था कि वैश्विक तापमान 2040 तक पेरिस समझौते में निर्धारित 1.5 डिग्री सेल्सियस लक्ष्य से ऊपर संभावना है।

पेरिस-सहमति वाले स्तरों पर गर्माहट बनाए रखने के लिए वैश्विक उत्सर्जन को 2030 तक आधा किया जाना चाहिए।

सभी जी7 कॉरपोरेट इंडेक्स में, 10 फीसदी कंपनियां कुल इंडेक्स उत्सर्जन के कम से कम 48 फीसदी के लिए जिम्मेदार हैं।

विज्ञान आधारित लक्ष्यों ने पिछले पांच वर्षों में कॉपोर्रेट उत्सर्जन में औसतन 25 प्रतिशत की कटौती की है।

एसबीटीआई कंपनियां 2020 और 2030 के बीच उत्सर्जन को औसतन आधे से कम करने के लिए ट्रैक पर हैं, अगर वे उसी दर पर जारी रहती हैं।

यूएन ग्लोबल कॉम्पेक्ट और एसबीटीआई बोर्ड चेयर के कार्यक्रम प्रमुख लीला करबासी ने कहा, पिछले महीने की आईपीसीसी रिपोर्ट मानवता के लिए कोड रेड थी। तत्काल जलवायु कार्रवाई अब सत्ता में रहने वालों के लिए सर्वोच्च प्राथमिकता होनी चाहिए। विज्ञान आधारित लक्ष्य सिद्ध हैं आवश्यक गति और पैमाने पर कॉपोर्रेट उत्सर्जन में कटौती करने के लिए वे दुनिया भर की सरकारों और कंपनियों के लिए एक महत्वपूर्ण हिस्सा हैं।

जी20 शिखर सम्मेलन और कॉम्पेक्ट26 से पहले, हमारे विश्व नेताओं को उत्सर्जन को कम करने के प्रभावी तरीके के रूप में विज्ञान-आधारित लक्ष्यों के पीछे अपना पूरा समर्थन देना चाहिए।

यह शोध जून में एसबीटीआई की ओर से सीडीपी और यूएन ग्लोबल कॉम्पेक्ट द्वारा तैयार की गई टेकिंग द टेम्परेचर रिपोर्ट का अपडेट है। रिपोर्ट ने जी7 इंडेक्स में कंपनियों के उत्सर्जन में कमी के लक्ष्यों का विश्लेषण किया और प्रति इंडेक्स एक तापमान रेटिंग का उत्पादन किया, जो ग्लोबल वामिर्ंग के स्तर को दर्शाता है जो कि इंडेक्स में कंपनियों द्वारा अपने लक्ष्यों को पूरा करने पर पहुंच जाएगा।

पेश किए गए नए शोध में जी13 देशों में उत्सर्जन लक्ष्य निर्धारण में प्रमुख अंतर्²ष्टि के साथ जी7 सूचकांक तापमान रेटिंग शामिल हैं। यह पाया गया है कि एसबीटी द्वारा कवर किए गए उत्सर्जन के उच्च हिस्से के साथ जी 7 इंडेक्स के परिणामस्वरूप कम समग्र तापमान रेटिंग होती है।

फैक्टशीट जून में जी20 शिखर सम्मेलन के बाद से एसबीटी में वृद्धि की प्रवृत्ति पर प्रकाश डालती है। अमेरिकन एक्सप्रेस (यूएस) हीडलबर्ग सीमेंट (जर्मनी) और यूटोंग बस (चीन) सहित भारी उत्सर्जक 1.5करोड़ अभियान के लिए एसबीटीआई बिजनेस एम्बिशन के माध्यम से 1.5 डिग्री-संरेखित लक्ष्य निर्धारित करने के लिए प्रतिबद्ध हैं।

उदाहरण के लिए, कनाडा के सूचकांक में विज्ञान आधारित लक्ष्यों में पांच प्रतिशत की वृद्धि देखी गई है, लेकिन तापमान रेटिंग अभी भी यूके के साथ संयुक्त रूप से उच्चतम है।

कोई जी7 इंडेक्स 1.5 डिग्री के साथ संरेखित नहीं है।

एसबीटीआई के प्रबंध निदेशक और सह-संस्थापक अल्बटरे कैरिलो पिनेडा ने कहा, हमारे जी7 विश्व नेताओं को महत्वाकांक्षी राष्ट्रीय प्रतिबद्धताओं और अन्य उपायों को पेश करना चाहिए, जो कंपनियों को जी13 देशों को सूट का पालन करने के लिए प्रोत्साहित करते हुए मजबूत डीकार्बोनाइजेशन लक्ष्य निर्धारित करने के लिए प्रोत्साहित करते हैं।

–आईएएनएस

एनपी/एएनएम

RELATED ARTICLES
- Advertisment -

लेटेस्ट न्यूज़

ट्रेंडिंग न्यूज़