Heavy Rain: कहीं मकान ढ़हे कहीं गांव कटे,दर्जनों सड़कें बंद

 
Heavy Rain

देहरादून। उत्तराखंड में बारिश का कहर जारी है। बागेश्वर,चमोली, उत्तरकाशी और टिहरी गढ़वाल जैसे ज़िलों में सड़कें बंद हैं। बद्रीनाथ नेशनल हाईवे का कई जगहों पर ठप होने का सिलसिला लगातार बना हुआ। पहाड़ में सड़कें टूट जाने से गांवों का संपर्क खत्म हो गया। मकानों पर बरसात कयामत की तरह टूटी है। राजधानी में नाले के उफनने से दो मासूम बच्चियों के बह जाने से हड़कंप मचा है। एक बच्ची का तो 20 घंटे बाद कुछ पता नहीं चल सका है। मौसम विभाग की चेतावनी है कि उत्तराखंड में 18 से 22 जुलाई के बीच खतरनाक बारिश होगी। इस दौरान यात्रा से लोग बचें।

Read also: Dhami Government: धामी के मंत्रियों और नौकरशाही के बीच 36 का आंकड़ा,राज्य में 126 के मुकाबले मात्र 72 आईएएस

देहरादून के तरला आम वाला में घर के आंगन में खेल रही दो मासूम बच्चियां बरसाती नाले की चपेट में आ गईं। बिहार के मज़दूर परिवार की आंखों के सामने बच्चियों के बह जाने से पूरा इलाका दहशत में है। पुलिस और एसडीआरएफ टीम ने घर से करीब दो किमी दूर छह साल की खुशी को तलाश लिया। जबकि आठ साल की अर्चना का अभी कहीं पता नहीं चल सका है। पूरे घर में मातम है। मौके पर पहुंचे विधायक उमेश शर्मा काऊ ने घटना के लिए नगर निगम को ज़िम्मेदार ठहराया है। चमोली में सलुड डुंग्रा सड़क मार्ग भारी बारिश के चलते बंद हो  गया है। जिससे सैकड़ों ग्रामीण अपने गांवों में कैद हो गए हैं। बारिश के चलते कई इलाकों में मलबा आने की खबरें हैं। वहीं, बागेश्वर में एक मकान बारिश की भेंट चढ़ गया। दो अन्य मकानों को नुकसान हुआ है। कुछ ज़िलों में मकानों और दुकानों में पानी भरने की जानकारी है। पौड़ी के यमकेश्वर में प्रतिदिन सैकड़ों सैलानियों के केंद्र चरेख जाने वाली रोड ढह गई है। कोटद्वार से नाले किनारे बना घर अचानक गिर जाने से दो लोग घायल हो गए हैं।