Kanwar Yatra Update: कांवड़ यात्रा को निशाना बना सकते हैं आतंकवादी, उत्तराखंड पुलिस सतर्क सुरक्षा को बनाया ये प्लान

 
Kanwar Yatra

हरिद्वार। सावन का महीना शुरू हो गया है। सावन का महीना भगवान महादेव को समर्पित माना जाता है। सावन महीने में प्रतिवर्ष हरिद्वार में शिवभक्त कांवड़ियों का हुजूम उमड़ता है। प्रत्येक साल सावन के महीने में शिव भक्त कांवड़ में गंगाजल भरकर अपने गंतव्य की ओर निकलते हैं। लेकिन इस साल की कांवड़ यात्रा पर आतंकियों की नजर है। जिसको लेकर सुरक्षा एजेंसियों ने अलर्ट जारी किया। वर्तमान हालात को देखते हुए कांवड़ यात्रा पर आतंकवादी खतरा मंडरा रहा है। इसके मद्देनजर गृह मंत्रालय ने उत्तराखंड, यूपी, दिल्ली और मध्य प्रदेश के अलावा अन्य राज्यों को भी अलर्ट जारी किया है। कांवड़ यात्रा को आतंकियों से बचाने के लिए हरिद्वार से लेकर ऋषिकेश तक पुलिस ने सुरक्षा व्यवस्था काफी कड़ी कर दी है।

Read also: Common Carp Fish: नैनी झील में कॉमन कार्प फिश का राज,दूसरी मछलियों की संख्या हो रही कम

 बता दें कि गत 14 जुलाई को सावन महीना शुरू हो चुका है। इसी के साथ ही कांवड यात्रा भी शुरू हो चुकी है। प्रतिवर्ष सावन माह में लाखों शिवभक्त उप्र, हरियाणा, दिल्ली, मप्र सहित अन्य कई राज्यों से हरिद्वार, ऋषिकेश पवित्र गंगा जल लेने के लिए पहुंचते हैं और फिर अपने गंतव्य के लिए रवाना होते हैं। इस बार उत्तराखंड में चार करोड़ शिवभक्त कांवड़ियों के पहुचंने का अनुमान है। शिवभक्तों की भीड़ देखते हुए पुलिस ने सुरक्षा व्यवस्था पुख्ता की है। केंद्रीय गृह मंत्रालय की चेतावनी के बाद अब पुलिस भी अलर्ट मोड़ पर आ गई है। बताया जाता है कि आतंकी कांवड़ियों के भेष में किसी बड़ी वारदात को अंजाम देने की फिराक में हैं। वहीं कांवड़ियों की सुरक्षा को लेकर उत्तराखंड डीजीपी अशोक कुमार ने बताया कि-सुरक्षा एजेंसियों द्वारा इनपुट जारी किए जाने के बाद पुलिस हाईअलर्ट मोड में हैं। पुलिस ने हरिद्वार, ऋषिकेश के होटलों में ठहरने वालों के अलावा सीमा की तरफ से आने वाले प्रत्येक वाहनों की चौकसी बढ़ा दी है। इसके अलावा हरिद्वार और नीलकंठ में चार सौ से अधिक सीसीटीवी कैमरों से निगरानी की जा रही है। बम स्क्वॉयड टीमें, डॉग स्क्वायड और एंटी टेरिरज्म स्क्वायड कमांडों तैनात किए हैं।