Uttarakhand Politics: विधायकों,कार्यकर्ताओं और पदाधिकारियों के बीच हलचल,टीम भट्ट और मंत्रिमंडल के विस्तार की कवायद तेज

 
महेंद्र भट्ट

देहरादून। भाजपा कार्यकर्ताओं, विधायकों और तमाम पदाधिकारियों के बीच इन दिनों हलचल देखी जा रही है। सभी लोग अपनी लाॅबिंग में जुटे हुए हैं। इस समय टीम धामी के विस्तार से लेकर प्रदेश भाजपा की नई टीम तक बड़े बदलाव होने की तैयारी है। एक तरफ, भाजपा प्रदेशाध्यक्ष पद पर महेंद्र भट्ट की ताजपोशी हो चुकी है। अब उन्होंने अपनी ताजपोशी के बाद निकाय चुना, पंचायत और लोकसभा चुनावों को ध्यान में रखकर अपनी टीम तैयार करनी है। इसके लिए उन्होंने अभी से तैयारी शुरू कर दी है। वहीं, सीएम पुष्कर सिंह धामी कैबिनेट के साथ दायित्वधारियों को लेकर बड़े फैसले ले सकते हैं। इस राजनीतिक हलचलों के बीच ही पूर्व सीएम त्रिवेंद्र सिंह रावत के अलावा पूर्व प्रदेशाध्यक्ष मदन कौशिक के भविष्य को लेकर भी सवाल चर्चा में हैं। संगठन से लेकर कैबिनेट स्तर तक विस्तार में राष्ट्रीय नेतृत्व की महत्वपूर्ण भूमिका होगी। लेकिन प्रदेशाध्यक्ष भट्ट और सीएम धामी की पसंद और नापसंद की भूमिका भी अहम होगी। भट्ट का कहना है प्रत्येक कार्यकर्ता भाजपा के लिए महत्वपूर्ण है। ऐसे में कार्यकर्ता को उसकी कार्य क्षमता के लिहाज से जहां पर उसकी जरूरत होगी, वहां काम सौंपा जाएगा।

Read also: एमएलसी चुनाव : सपा प्रत्याशी का पर्चा खारिज, भाजपा के दोनों उम्मीदवारों की निर्विरोध जीत तय

भाजपा कार्यालय में भट्ट को बधाई देने के बहाने पार्टी कार्यकर्ताओं की भीड़ लगी हुई है। टिहरी से पूर्व ब्लॉक प्रमुख खेमसिंह चौहान का कहना है कि कार्यकर्ताओं को उम्मीद तो होती है। हालांकि, भट्ट के लिए मनपसंद टीम का चयन इतना आसान नहीं होगा। ज़िले के नेता प्रदेश कार्यालय में अपनी धमक बना रहे हैं तो प्रदेश के नेता दिल्ली दरबार में हाजिरी बजा रहे हैं। अभी तक भाजपा प्रदेशाध्यक्ष रहे मदन कौशिक राजनीतिक पुनर्वास की तलाश में जुटे हैं। सीएम धामी से उनकी दूरियां पूरी तरह से जगजाहिर हैं। ऐसे में उनके लिए कैबिनेट में संभावना कम है। जानकारों की माने तो कौशिक खुद भी कैबिनेट के स्थान पर राष्ट्रीय संगठन में किसी पद या लोकसभा चुनाव में हरिद्वार से टिकट के लिए तैयारी कर रहे हैं। वहीं दूसरी ओर चर्चा है कि पूर्व सीएम त्रिवेंद्र रावत का भी राजनीतिक वनवास इस बार खत्म हो सकता है।