कारगिल विजय दिवस 2022: कारगिल के शहीदों को विजय दिवस पर सीएम धामी ने दी श्रद्धांजलि

 
Kargil Vijay Diwas 2022

देहरादून। उत्तराखंड के मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने आज कारगिल विजय दिवस के मौके पर भारतीय सेना के साहस व शौर्य को नमन किया। शौर्य दिवस के मौके पर आज मंगलवार को मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने गांधी पार्क स्थित शहीद स्मारकस्थल पर कारगिल युद्ध में शहीद हुए शहीदों को श्रद्धांजलि अर्पित की। इस दौरान उन्होंने शहीदों के परिजनों और वीरांगनाओं को सम्मानित किया। सीएम की ओर से कोई बड़ी घोषणा न होने से सैनिक परिवार निराश है। सीएम पुष्कर सिंह धामी ने संबोधन की शुरुआत रामधारी सिंह दिनकर की कविता'जिनके सिंहनाद से सहमी धरती रही अभी तक डोल, कलम, आज उनकी जय बोल'से किया। 

Read also: Kanwar Yatra 2022: लैंगिक असमानता खत्म करने को मंत्री रेखा आर्य ने उठाई कांवड़

उन्होंने कहा कि वो सैनिक परिवार से हैं। इसलिए वीरों की वीरता को समझते हैं। कारगिल युद्ध में वीरों की राष्ट्रभक्ति पूरे चरम पर थी। उनका साहस ही था जिसके बल पर कारगिल युद्ध जीता जा सका।  सीएम धामी ने कहा प्रदेश में बनने वाला सैन्यधाम सितंबर के महीने तक तैयार हो जाएगा। आने वाला दशक उत्तराखंड का होगा। उत्तराखंड को देश का सर्वश्रेष्ठ राज्य बनाने का हमें संकल्प लेना होगा। सीएम धामी ने कहा कि पहले सेना को गोली चलाने की छूट नहीं थी। अब अगर सेना पर एक गोली चलती है तो उसका जवाब सर्जिकल स्ट्राइक से दिया जा रहा है। पीएम मोदी के नेतृत्व में देश की सेना और मजबूत हुई। केंद्रीय नेतृत्व दिल्ली में बैठकर नहीं घाटी में जाकर सैनिकों का मनोबल बढ़ा रहा है। सीएम धामी ने कहा कि कारगिल युद्ध में बड़ी संख्या में उत्तराखंड सपूतों ने देश की रक्षा के लिए प्राणों की आहुति दी। राज्य सरकार हमेशा से सैनिकों, पूर्व सैनिकों एवं उनके परिजनों के कल्याण के लिए पूरी तरह से वचनबद्ध है। भारतीय सेना अपने शौर्य और पराक्रम से हमेशा देश का मान बढ़ाती रही है। हमें अपने वीर जवानों पर गर्व है। भारतीय सेना के वीर जवानों ने कारगिल युद्ध में विपरीत परिस्थितियों में दुश्मन को भागने पर मजबूर किया।