Sawan Shivratri 2022: नीलकंठ धाम में 50 हजार श्रद्धालुओं ने किया जलाभिषेक,उत्तराखंड के शिवालयों में भक्तों की भीड़

 
Sawan Shivratri 2022

देहरादून। सावन शिवरात्रि के मौके पर आज देवभूमि उत्तराखंड के शिवालयों में सुबह से भगवान भोलेनाथ के जयकारे लग रहे हैं। हरिद्वार के दक्ष प्रजापति और विल्वकेश्वर महादेव मंदिर सहित प्रदेश के शिवालयों में श्रद्धालुओं की लंबी लाइनें लगी हैं। श्रद्धालुओं ने शिवलिंग पर जल, दूध से अभिषेक कर बिल्व पत्र और प्रसाद चढ़ाकर खुशहाली की कामना की। नीलकंठ धाम में सुबह 10 बजे से अब तक 50 हजार श्रद्धालु जलाभिषेक के लिए पहुंच चुके हैं। आज पूरे दिन श्रद्धालुगण भोलेनाथ का अभिषेक कर सकेंगे। सावन में आद्रा नक्षत्र जिसके स्वामी स्वयं रुद्र हैं। शिव पुराण और स्कंध पुराण में इस नक्षत्र में चढ़ाने का विशेष महत्व है। भारतीय प्राचीन विद्या सोसाइटी कनखल के अनुसार आज शिव चौदस है। साथ ही आद्रा नक्षत्र है। पूरे दिन शिव अभिषेक का मुहूर्त बन रहा है। शाम को सात बजे से भद्रा प्रारंभ हो जाएगी और पूरी रात रहेगी। इस बार भद्रा स्वर्ग में होने के कारण इसका कोई दुष्प्रभाव नहीं है। 

Read also: Kanwar Yatra 2022: लैंगिक असमानता खत्म करने को मंत्री रेखा आर्य ने उठाई कांवड़

शाम को 7:23 बजे से 8:20 बजे तक प्रदोष काल में विशेष पूजा होगी। लक्ष्मी प्राप्ति के लिए गन्ने के रस और रोग निवृति के लिए  गिलोय, पुत्र प्राप्ति के लिए दूध, विजय के लिए घी, मनवांछित वर प्राप्ति को शहद आदि से अभिषेक शुभ होगा। शत्रु मर्दन के लिए मूंगा और शिव कृपा प्राप्ति को रुद्राक्ष अर्पित कर सकते हैं। भगवान शिव की ससुराल दक्षेश्वर महादेव का नजारा आज देखने लायक है। आकर्षक ढंग से सजा भगवान शंकर की ससुराल दक्ष प्रजापति मंदिर में देर रात से ही भक्तों का सैलाब उमड़ रहा है। सावन की शिवरात्रि पर भोलेनाथ का अभिषेक करने का विशेष महत्व बताया गया है।