Uttarakhand Weather Alert : चार धाम यात्रा पर जाने से पहले जाने मौसम का मिजाज, इन दो दिन बारिश का अलर्ट

विज्ञान केंद्र के वरिष्ठ मौसम विज्ञानी विक्रम सिंह के अनुसार पश्चिमी विक्षोभ के कारण बंगाल की खाड़ी से आ रहीं नम हवाओं के कारण उत्तराखंड के पर्वतीय इलाकों में हवाओं का दबाव बन रहा है। जिसके चलते बारिश होने के साथ कुछ अंतराल में बार-बार बारिश का दौर देखने को मिल रहा है।
 
बारिश और तेज हवाएं चलने की संभावना

देहरादून। चार धाम की यात्रा पर जा रहे हैं या शुरूआत कर दी है तो जरा मौसम के मिजाज पर भी एक नजर डाल लें। हिमाचल और उत्तराखंड में बन रहे पश्चिमी विक्षोभ के कारण  बारिश और तेज हवाएं चलने की संभावना मौसम विभाग ने जताई है। मौसम विभाग ने आगामी 17 मई और 18 को पहाड़ से लेकर मैदान तक बारिश होने का अंदेशा जताया है। जिससे पहाड़ से लेकर मैदान तक मौसम का मिजाज पूरी तरह से बदलेगा। विज्ञान केंद्र के वरिष्ठ मौसम विज्ञानी विक्रम सिंह के अनुसार पश्चिमी विक्षोभ के कारण बंगाल की खाड़ी से आ रहीं नम हवाओं के कारण उत्तराखंड के पर्वतीय इलाकों में हवाओं का दबाव बन रहा है। जिसके चलते बारिश होने के साथ कुछ अंतराल में बार-बार बारिश का दौर देखने को मिल रहा है।

Also read: चार धाम यात्रा में अब तक 30 तीर्थयात्रियों की मौत, उत्तराखंड सरकार की व्यवस्था नकाम अब बनाया ये प्लान 

पश्चिमी विक्षोभ और बंगाल की खाड़ी से आई नम हवाओं के कारण मौसम का मिजाज बदलेगा। मौसम विज्ञानियों के अनुसार रुद्रप्रयाग,उत्तरकाशी, बागेश्वर, चमोली,पिथौरागढ़ में आगामी 17-18 मई को तेज हवा के साथ बारिश की संभावना है। बारिश के साथ तेज गर्जना के साथ बिजली गिरने की संभावना भी है। वहीं हवा की रफ्तार 40 से 60 किमी प्रति घंटा रहने की संभावना है। इन दो दिन में मैदानी इलाकों में बादल छाए रहेेंगे। हालांकि मैदानी इलाकों में अभी बारिश की संभावना कम ही है। अब 31 मई को जो भी बारिश होगी वह प्री मानसून की बारिश मानी जाएगी।

आमतौर पर मानसून एक जून के आसपास केरल पहुंचता है और वहां से उत्तराखंड समेत हिमालयी राज्यों में इसको पहुंचने में 20 दिन लगते हैं। लेकिन यदि मानसून ने एक जून से पहले दस्तक दी तो उत्तराखंड में भी मानसून जल्दी पहुंच जाएगा। वहीं मौसम विभाग ने चार धाम यात्रा पर जाने वाले श्रद्धालुओं को सचेत किया है। मौसम विभाग ने श्रद्धालुओं से आग्रह किया है कि मौसम खराब होने की स्थिति में यात्रा नहीं करें। जहां भी रूकने की जगह मिले वहीं रूककर अपना और अपने साथ वालों को बचाव करें। साफ मौसम में ही चार धाम यात्रा करें।