Sri Lanka Presidential Election: सियासी संकट के बीच श्रीलंका की संसद में शुरू हुआ देश के नए राष्ट्रपति के लिए मतदान

 
Sri Lanka Presidential Election

कोलंबो। श्रीलंका में आर्थिक और सियासी संकट के बीच आज संसद में देश के नए राष्ट्रपति का चुनाव शुरू हो चुका है। मतदान की प्रक्रिया शुरू है। राष्ट्रपति पद के लिए श्रीलंका में इस समय त्रिकोणीय मुकाबला है। सांसदों ने प्रत्याशियों के रूप में कार्यवाहक राष्ट्रपति रानिल विक्रमसिंघे सहित तीन नामों का प्रस्ताव किया। संसद में अब वोटिंग शुरू हो चुकी है। सांसदों ने राष्ट्रपति पद के लिए जिन तीन नामों का प्रस्ताव किया था। उनमें दुल्लास अल्हाप्पेरुमा (63),रानिल विक्रमसिंघे (73) और अनुरा कुमारा दिसानायके (53) हैं। अल्हाप्पेरुमा कट्टर सिंहली राष्ट्रवादी और सत्तारूढ़ श्रीलंका पोदुजाना पेरामुना (एसएलपीपी) पार्टी के मेंबर हैं। उन्हें मुख्य विपक्षी नेता एस. प्रेमदासा ने अपना समर्थन देकर नाम वापस लिया। दिसानायके वामपंथी जनता विमुक्ति पेरामुना (जेवीपी) के सदस्य हैं। देश में पूर्व राष्ट्रपति गोतबाया राजपक्षे के उत्तराधिकारी की नियुक्ति के लिए आज 20 जुलाई को चुनाव हो रहा है। नए राष्ट्रपति निर्वाचन के बाद से नवंबर 2024 तक पूर्व राष्ट्रपति राजपक्षे के शेष कार्यकाल के लिए पद पर रहेंगे। 

Read also: Maharashtra Politics: शिवसेना को बड़ा झटका,एकनाथ शिंदे गुट को मिली मान्यता

श्रीलंका में राष्ट्रपति चुनाव मतदान के लिए संसद पहुंचे विपक्ष नेता साजिथ प्रेमदासा ने ट्वीट कर कहा कि 'हम भ्रष्टाचार विरोधी, समृद्धि, विश्वसनीय और पारदर्शी सरकार का समर्थन करेंगे।' प्रेमदासा ने राष्ट्रपति पद के लिए उम्मीदवारी को वापस ले लिया था। श्रीलंका की प्रमुख विपक्षी पार्टी एसजेबी ने कहा है कि यदि सांसद दुल्लास अल्हाप्पेरुमा राष्ट्रपति पद के लिए चुने जाते हैं तो पार्टी नेता साजिथ प्रेमदासा को प्रधानमंत्री नियुक्त किया जाएगा। पार्टी महासचिव रंजीत मद्दुमा बंडारा ने बताया कि अल्हाप्पेरुमा की पार्टी के साथ यही समझौता हुआ है। बंडारा ने दावा किया कि अल्हाप्पेरुमा को 225 सदस्यीय संसद में नए राष्ट्रपति के रूप में चुने जाने के लिए समर्थन हासिल है।